निगम चुनाव: 79 फिर सुर्खियों में - Khulasa Online

निगम चुनाव: 79 फिर सुर्खियों में

जयनारायण बिस्सा बीकानेर। शहर की सरकार को लेकर 16 नवम्बर को होने वाले चुनावों के लिये 79 नंबर एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। पहले टिकट को लेकर वार्ड 79 में चर्चा का विषय बना और अब दोनों ही दलों के एक एक नामांकन खारिज होने के बाद अब दोनों ही दल 79-79 सीटों पर ही चुनाव लड़ रहे है। कईयों के बिगड़ेगें गणित राजनीतिक जानकारों की माने तो इस अंक के कारण कईयों के राजनीतिक गणित बिगडेंगे। वार्ड 79 से कांग्रेस टिकट को लेकर हुए घमासान के बाद कांग्रेस के मंत्री डॉ बी डी कल्ला से अनेक नेताओं के गणित बिगडऩे वाले है। सूत्र बताते है कि ब्लॉक अध्यक्ष को टिकट दिलाने के चक्कर में कई वरिष्ठ नेता डॉ कल्ला से नाराज चल रहे है। विधानसभा चुनाव में जिलाध्यक्ष की टिकट कटने के सालभर बाद नाराज चल रहे नेताओं के संबंध इस चुनाव की टिकट वितरण से पहले ही सामान्य हुए थे। परन्तु कई वार्डों में टिकट वितरण के बाद एक बार फिर डा कल्ला से नाराज होने वालों की संख्या में इजाफ ा हो गया है। मजे की बात ये है नाराज होने वालों कांग्रेस के वे नेता है जो कभी डॉ कल्ला के सहयोग से या तो शहर कार्यकारिणी में पदाधिकारी बने या जिन्होंने राजनीतिक नियुक्तियां पाई थी। हालात ये है कि पदों की भूख के चलते अब पदाधिकारी अपनी पार्टी के लिये सिरदर्द बन चुके है। भाजपा की हालत भी पतली बताया जा रहा है कि यह चुनाव कही न कही दोनों ही पार्टियों के लिये अग्नि परीक्षा सिद्व होगा। टिक ट वितरण के बाद उपजे विद्रोह की आग जहां कांग्रेस में भी लगी है तो इस मामले में भाजपा कांग्रेस से कही आगे है। यहां भी 79 अंक भाजपा पर भारी पड़ रहा है। बताया जा रहा है कि 79 पदाधिक ारी,पूर्व पार्षद ,पूर्व पदाधिकारी,और निवर्तमान पार्षद पार्टी के लिये संकट पैदा कर सकते है। टिकट वितरण में केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल की मनामनी से नाराज पार्टी के महामंत्री,कोषाध्यक्ष,कई म ंडल अध्यक्ष तथा निवर्तमान पार्षदों ने दबी जुबां में अपना विरोध दर्ज करवा दिया है। सूचना ये भी मिल रही है कि ये नाराज पदाधिकारी व निवर्तमान पार्षद पार्टी की कारसेवा करने में जुट गए है। नाराज पदाधिकारियों का आरोप है कि मंत्री ने अपने चेहतों को टिकट देने के लिये सारे समीकरण बिगाड़ दिए। सामान्य वार्डों में आरक्षित वर्ग के लोगों को टिकट देना,पदाधिकारियों द्वारा मांगी गई टिकटों को काटना पार्टी को भारी पड़ेगा।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp 26