कोरोना ग्राफ: पिछले एक माह ने बीकानेर को चौकाया,ये आंकड़े देखकर आप भी रह जाएंग दंग - Khulasa Online

कोरोना ग्राफ: पिछले एक माह ने बीकानेर को चौकाया,ये आंकड़े देखकर आप भी रह जाएंग दंग

जयनारायण बिस्सा बीकानेर। जिले में जिस तरह कोरोना का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। उससे आम आवाम में चिंता होना स्वाभाविक है। अगर पिछले एक माह के आंकड़ों पर नजर डाले तो देखेगें की 26 जून तक जितने कोरोना पॉजिटिव मामले आएं उनमें से आधे से ज्यादा पिछले एक माह में आएं है। जबकि अनलॉकडाउन खुला अभी एक माह भी नहीं हुआ है। खुलासा को मिले आंकड़ों में बीकानेर में पहला केस 4 अप्रेल को आया। उसके बाद 4 अप्रेल से 25 मई तक 93 पॉजिटिव मामले आएं। जबकि 26 मई और 26 जून तक 152 नये मामले रिपोर्ट हुए। मंजर यह है कि पिछले आठ दिनों में 87 नये पॉजिटिव केस रिपोर्ट हुए है। अब हालात ये है कि जो नये केस सामने आ रहे है। उसमें संक्रमितों के परिजन व परिचित ज्यादा है। वहीं पिछले एक माह में मरने वालों का आंकड़ा भी दोगुना हो गया। हांलाकि मरने वाले किसी न किसी गंभीर बीमारी से पीडि़त थे। जबकि पीबीएम में अब तक 21 मौते हो चुक ी है। इसमें 13 बीकानेर,पांच नागौर,दो गंगानगर और एक अजमेर के थे। फिर भी आंकड़े चौकाने वाले है। ऐसे में जिले में कोरोना संक्रमण का मीटर राज्य सरकार व जिला प्रशासन को सोचने को मजबूर कर देगा। पिछले एक माह में आये पॉजिटिव मामले 26 मई को 3 27 मई को 8 28 मई को 9 30 मई को 1 31 मई को 2 2 जून को 2 8 जून को 2 9 जून को 3 10 जून को 1 11 जून को 3 12 जून को 2 13 जून को 9 15 जून को 2 16 जून को 6 17 जून को 6 18 जून को 6 19 जून को 29 20 जून को 8 22 जून को 7 23 जून को 2 24 जून को 4 25 जून को 21 26 जून को 16 कुल 152 कम्युनिटी स्प्रेड की आशंका तो नहीं! बीकानेर में कोरोना के कम्युनिटी स्प्रेड की आशंका के बावजूद सीएमएचओ डॉ बी एल मीणा का कहना है कि बीकानेर अभी भी कम्युनिटी स्पे्रड की श्रेणी में नहीं आता है। बीकानेर की स्थिति कोरोना के नमूने, संक्रमितों की संख्या और संक्रमितों के ठीक होने आंकड़ों से काफी अच्छी है। बीकानेर में कोरोना संक्रमण कम्युनिटी स्प्रेड की तरफ ना बढ़े इसके लिये जिला प्रशासन अत्यधिक सतर्कता के साथ काम कर रहा है। क्या है कम्युनिटी स्प्रेड डब्ल्यूएचओ के अनुसार कम्युनिटी स्प्रेड कोरोना वायरस की तीसरी स्टेज है। जब कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति आपके क्षेत्र में आता है यह कोरोना संक्रमण की पहली स्टेज कहलाती है। यदि कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आये लोग भी कोरोना संक्रमित हो जाएं तो यह कोरोना संक्रमण की दूसरी स्टेज मानी जाती है।इसी प्रकार जब बिना किसी सोर्स के कोई व्यक्ति संक्रमित रिपोर्ट हो तो इसे कोरोना संक्रमण की तीसरी स्टेज होती है। यानी कोई व्यक्ति कोरोना पीडि़त कैसे हुए ये पता ही नहीं चल रहा है तब कम्युनिटी स्प्रेड का डर बढ जाती है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp