यूक्रेन में हो रही बम वर्षा, बीकानेर सहित राजस्थान के सैकड़ों परिवार परेशान - Khulasa Online

यूक्रेन में हो रही बम वर्षा, बीकानेर सहित राजस्थान के सैकड़ों परिवार परेशान

खुलासा न्यूज, बीकानेर । यूक्रेन में बिगड़ते हालात के बीच इंडियन स्टूडेंट वतन वापसी में लगे है। पोलैंड के बाद अब हंगरी बॉर्डर पर भी स्टूडेंट फंसे हुए है। इधर, स्टूडेंट का कहना है कि एम्बेसी की ओर से हंगरी बॉर्डर पर जाने की इंफॉर्मेशन मिली थी। इवानो से 18 स्टूडेंट गाड़ी से एम्बेसी पहुंचे तो वहां कोई एजेंट नहीं मिला। अभी 18 स्टूडेंट वहां फंसे हैं। रात में भी जैसे-तैसे निकााली। उन्होंने अमेरिका की प्रवासी भारतीयों की मदद करने वाली संस्था रीडिओ के चैयरमेन प्रेम भंडारी से संपर्क साधा। जोधपुर के मूल निवासी प्रेम भंडारी लगातार राजस्थानियों व अन्य भारतीयों से संपर्क साधे हुए है। उन्होंने संयुक्त सचिव यूक्रेन राम बाबू से संपर्क किया। इन छात्रों में राजस्थान के चुरु जिले के राजगढ के विजय ने बताया कि वे इवानो की मेडिकल यूनिर्वसिटी में पढ़ते है। इंडियन एम्बेसी की एडवाइजरी पर कॉलेज हॉस्टल से वे टैक्सी किराए पर लेकर सीमा पर पहुंच गए, लेकिन टैक्सी वाले ने उन्हें सीमा से एक किलोमीटर दूर छोड़ दिया। विजय ने बताया कि उन्होंने सीमा पर हंगरी में प्रवेश करने के लिए भारतीय दूतावास के अधिकारियों द्वारा सुविधा के लिए काफी इंतजार किया। रात एक बजे तक बाॅर्डर पर खड़े रहे। लेकिन सैनिकों ने वहां से उन्हें हटा दिया। -2 डिग्री के तापमान में सड़कों पर इंतजार किया। एम्बेसी से कोई रिप्लाई नहीं। मिला। आखिर जब सेना ने बॉर्डर से हटा दिया तो यहां लोगों से रिक्वेस्ट कर शरण ली है। विजय ने बताया कि दो राजस्थान के स्टूडेंट के अलावा अन्य लाेग भारत के विभिन्न राज्यों सें है। हम सभी परेशान है। कुछ स्टूडेंट्स हालात खराब होने के साथ ही भारत लौट आए थे। इसमें जयपुर रोड पर रहने वाली मोनिका बीकानेर पहुंची। उसने बताया कि सामान्य से तीन गुना ज्यादा किराया देकर फ्लाइट से बीकानेर तक आई है। खाजूवाला के सतवीर भी कुछ दिन पहले वहां से लौटे हैं। सतवीर बताते हैं कि हमारे मित्र बंकरों में रात गुजार रहे हैं। आदित्य बताते है कि हालात बिगड़ रहे है , बम वर्षा हो रही है , वतन वापसी की चिंता है ।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp