बीकानेर में भी रेमडेसिविर की कालाबाजारी, 20 गुना ज्यादा दाम में मिल रहा है इंजेक्शन - Khulasa Online

बीकानेर में भी रेमडेसिविर की कालाबाजारी, 20 गुना ज्यादा दाम में मिल रहा है इंजेक्शन

खुलासा न्यूज,बीकानेर। कोरोना के इलाज में कारगर रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी चरम पर है। हांलाकि पीबीएम अस्पताल में इसकी पर्याप्त मात्रा बताई जा रही है। लेकिन, ब्लैक में लोगों को 20 गुना ज्यादा दाम में मिल रहे हैं। चिकित्सकों की माने तो एक मरीज को कोरोना के इलाज में 6 इंजेक्शन का कोर्स करवाना होता है, लेकिन बाजार व निजी अस्पतालों में इंजेक्शन मिल नहीं रहा है। जानकारी के अनुसार अस्पताल में भर्ती मरीजों को रेमडेसिविर की जरूरत होती है। किन्तु कई मरीज ऐसे है जो निजी अस्पतालों और होम आइसोलेशन में है। उन्हें भी इस इंजेक्शन की जरूरत होने के बाद भी उन्हें इंजेक्शन उपलब्ध नहीं हो रहे है। ऐसे में कुछ स्टाकिस्ट इसको 15 से 25 हजार तक में बेच रहे है। कई गुना ज्यादा रेट में मिल रहा जो इंजेक्शन अस्पतालों में नहीं है, वह कई गुना ज्यादा रेट में मरीजों के तिमारदार लेकर आ रहे हैं। करीब 900 रुपये तक का इंजेक्शन 20 गुना ज्यादा कीमत पर मिल रहा। इस परेशानी में शिकायत के बाद भी सुधार नहीं हो रहा है।दो अलग अलग रोगी के परिजनों ने अपना नाम न छापने की शर्तें पर बताया कि उन्होंने बीकानेर में यह इन्जेक्शन करीब 18000 रूपये में खरीदा था। वहीं एक अन्य ने इसकी कीमत दो इन्जेक्शन की 35000 रूपये बताया। लोगों ने स्टॉक करना किया शुरू इंजेक्शन की डिमांड बढऩे के बाद लोगों ने उसे स्टॉक करना शुरू कर दिया। यहां तक कुछ अस्पताल में डोज मिलने के बाद मरीजों को बाहर से इंजेक्शन लेकर आने की बात कर रहे हैं, जिससे लोगों को परेशानी हो रही है। कुछ दिनों में आपूर्ति ठीक होने का दावा डॉक्टरों के अनुसार प्राइवेट अस्पताल लगातार इस संबंध में जानकारी दे रहे हैं, लेकिन आपूर्ति के कुछ दिन में ठीक होने की बात की जा रहे। इस देरी के साथ हालात खराब होते जा रहे हैं। जिले में कोरोना के केस वर्ष 2021 में कल तक 99181 जांचे हुयी उनमे 14487 पोजिटिव आये 5749 डिस्चार्ज हुए , 113 की मृत्यु हुई।सोमवार तक 8694 एक्टिव केस हैं जिसमें 7775 घरों में 12 इंस्टीटूशनल व 907 पीबीएम में भर्ती है । औसतन 815 लोगों की जांच हो रही है जिसमे औसतन 80 पोजिटिव आ रहें है। पोजिटिव का प्रतिशत 14. 56 प्रतिशत मृत्यु का प्रतिशत .78 प्रतिशत तथा रिकवरी का प्रतिशत 39 . 68 प्रतिशत है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp