पीबीएम में अब ढीली करनी होगी जेब, यहां देनेे होंगे इतने रुपए - Khulasa Online पीबीएम में अब ढीली करनी होगी जेब, यहां देनेे होंगे इतने रुपए - Khulasa Online

पीबीएम में अब ढीली करनी होगी जेब, यहां देनेे होंगे इतने रुपए

पीबीएम में अब ढीली करनी होगी जेब, यहां देनेे होंगे इतने रुपए

बीकानेर। संभाग के सबसे बड़े पीबीएम अस्पताल में अब पार्किंग के लिए फिर से शुल्क जमा कराना होगा। अस्पताल प्रशासन ने एक बार फिर पार्किंग का ठेका आवंटित कर दिया है। राजस्थान मेडिकेयर रिलीफ सोसाइटी की बैठक में पार्किंग का ठेका देने पर सहमति बनी थी। इसके बाद यह फैसला लिया गया। गौरतलब है कि तत्कालीन संभागीय आयुक्त डॉ. नीरज के. पवन की पहल पर अस्पताल में पार्किंग ठेके को निरस्त कर दिया गया था। कुछ दिनों तक तो सुरक्षा गार्डों से निगरानी कराई जाती रही। लेकिन समय के साथ-साथ यह व्यवस्था भी ध्वस्त हो गई। लोग यहां-वहां वाहन खड़ा करने लगे। चोरियों की घटनाएं बढ़ने लगी। इसके बाद अस्पताल प्रशासन ने पार्किंग ठेका उठाने पर विचार किया। अब एक एजेंसी को पार्किंग की जिम्मेदारी दी गई है। नई व्यवस्था में ठेके की पर्ची में दुपहिया वाहन का पांच रुपए, तिपहिया वाहन का 20 रुपए तथा चौपहिया वाहनों का शुल्क 30 रुपए निर्धारित किया गया है। रात 8 बजे बाद दोगुना शुल्क वसूला जाएगा। पार्किंग ठेके से होने वाली आय पीबीएम अस्पताल की मेडिकेयर रिलीफ सोसायटी में जमा होगी। गौरतलब है कि एसएसबी में राजस्थान मेडिकेयर रिलीफ सोसाइटी का अलग से गठन किया हुआ है। इसका बैंक खाता भी अलग है। एसएसबी में ठेका तथा जांच शुल्क आदि इसके खाते में ही जमा होने का नियम है। लेकिन पीबीएम अस्पताल प्रशासन ने अपने स्तर पर ही एसएसबी में भी पार्किंग का ठेका जारी कर दिया। ऐसे में अब ठेके से होने वाली आय पीबीएम अस्पताल की मेडिकेयर रिलीफ सोसाइटी के खाते में ही जमा होगी। यहां कैंटीन का किराया भी पीबीएम की सोसाइटी में पहले से जमा हो रहा है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp 26