बीकानेर में कोरोना से 20 साल की लड़की की हुई मौत, वैक्सीनेट नहीं थी, अभी भी दो लाख ने टीका नहीं लगाया   - Khulasa Online

बीकानेर में कोरोना से 20 साल की लड़की की हुई मौत, वैक्सीनेट नहीं थी, अभी भी दो लाख ने टीका नहीं लगाया  

राजस्थान में कोरोना के केस बढ़ने के साथ-साथ अब इस बीमारी से मौत भी होने लगी है। पिछले 24 घंटे की रिपोर्ट देखे तो पूरे प्रदेश में 29 नए मरीज मिले है, वहीं बीकानेर में एक 20 साल की बच्ची की मौत हो गई। 19 दिन बाद राज्य में कोरोना से मौत हुई है। इससे पहले नवंबर में जयपुर में एक ढाई साल के बच्चे की मौत हुई थी।

मेडिकल एण्ड हेल्थ डिपार्टमेंट की रिपोर्ट देखे तो आज सबसे ज्यादा 15 मरीज जयपुर में मिले हैं। जयपुर में दो मरीज ऐसे संदिग्ध है, जिनमें ओमिक्रॉन वैरियंट होने की आशंका जताई जा रही है और इनके सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए लैब भिजवाए है। जयपुर के अलावा उदयपुर में 3, जोधपुर, अजमेर में 2-2 और अलवर, बाड़मेर, गंगानगर, हनुमानगढ़, जैसलमेर, नागौर, पाली में एक-एक केस मिला है। पूरे राज्य में आज इस बीमारी से 28 मरीज रिकवर हुए है, जिसके बाद एक्टिव केसों की संख्या 221 रह गई।

22 मई के बाद पहली मौत

बीकानेर में इससे पहले 22 मई को कोरोना से अंतिम मौत हुई थी। ऐसे में करीब साढ़े छह महीने बाद एक बार फिर कोरोना ने अपना रौद्र रूप दिखाना शुरू किया है। पिछले साढ़े छह महीने में कोरोना की चपेट में आए सभी रोगी ठीक हो गए लेकिन इस बीस वर्षीय युवती की तबियत बिगड़ती चली गई। सांस लेने में ज्यादा दिक्कत होने पर उसे पहले टीबी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

वैक्सीनेट नहीं थी

जानकारी के अनुसार इस युवती ने कोरोना का एक भी वैक्सीन नहीं लगवाया था। ऐसे में कोविड की चपेट में आने के बाद उसे बचाया नहीं जा सका। बीकानेर में अभी भी करीब दो लाख लोग ऐसे हैं, जिन्होंने एक भी टीका नहीं लगाया है।

सभी स्टाफ को एक्टिव मोड पर आने के निर्देश

प्रदेश में कोरोना वायरस के नए वेरिएंट के मरीज मिलने के बाद हैल्थ डिपार्टमेंट के प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोड़ा और चिकित्सा सचिव वैभव गालरिया ने सभी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसीपल, सीएमएचओ, पीएमओ व संबंधित अधिकारियों को ज्यादा से ज्यादा सैंपलिंग व रैंडम सैंपल लेने के निर्देश दिए। गालरिया ने तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट, आईसीयू बेड इत्यादि की समय-समय पर इंस्टॉलेशन सुनिश्चित करने और चिकित्सकों, नर्सिंग कर्मियों को आईसीयू मैनेजमेंट, ऑक्सीजन थेरेपी ट्रीटमेंट प्रोटोकोल इत्यादि की ट्रेनिंग करवाने के भी निर्देश दिए।

एक सप्ताह में 150 मरीज मिले

राजस्थान में पिछले 7 दिन की रिपोर्ट देखे तो 150 मरीज अब तक मिल चुके है। इसमें आधे से ज्यादा मरीज 66 जयपुर में मिले है। वहीं बीकानेर में एक सप्ताह में 20, उदयपुर में 12 और अजमेर, अलवर में 9-9 मरीज मिले है। बांसवाड़ा, बारां, भरतपुर, बूंदी, चित्तौड़गढ़, धौलपुर, जालौर, झालावाड़, करौली, प्रतापगढ़, राजसमंद, सवाई माधोपुर, सिरोही और टोंक ऐसा जिला है, जहां पिछले एक सप्ताह में एक भी मरीज नहीं मिला है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp 26