रीट परीक्षा से पहले ही सैंटिग 100 करोड़ में, एक प्रतियोगी पास होने का देगा 17 लाख रुपये - Khulasa Online

रीट परीक्षा से पहले ही सैंटिग 100 करोड़ में, एक प्रतियोगी पास होने का देगा 17 लाख रुपये

जयपुर । सरकारी भर्तियों में सिस्टम से छेडछाड़ कर बेरोजगारों को नौकरी लगाने के नाम पर लाखों रुपयों की ठगी करने वाले एक गिरोह के बारे में जयपुर पुलिस ने केस दर्ज किया है। गिरोह के दो लोगों के खिलाफ फिलहाल नामजद रिपोर्ट दी गई है और बाकि अन्य के बारे में भी जानकारी दी गई है। जांच जयपुर की जवाहर नगर पुलिस कर रही है। रिपोर्ट सीकर निवसी मानसिंह ने दी है। पुलिस ने ठगी समेत अन्य छह धाराओं में केस दर्ज किया है। परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था युवक, उसे सीधे भर्ती का लालच दिया जवाहर नगर पुलिस ने बताया कि क्षेत्र में रहने वाला एक युवक मानसिंह, जो करीब दो साल से किराये पर रहकर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था। मूल रुप से सीकर निवासी मानसिंह के साथ उसका रुम शेयर करने वाले रुप पार्टनर धीरज ने यह पूरी प्लानिंग की। धीरज ने मानसिंह को बताया कि उसके मामा भीखाराम की सरकार में अच्छी जान पहचान है और उन्होनें कई लोगों की नौकरियां लगाई हैं। हांलाकि कुछ रपए भी देने होंगे। इस बातचीत के कुछ दिन बाद भीखाराम जोधपुर से जयपुर आया और मानसिंह से मिला। उसने मानसिंह को बताया कि पटवारी भर्ती 2019-20 की परीक्षा जल्द ही होने जा रही है। परीक्षा से ठीक पहले पेपर दूंगा और वही करके आना है। लेकिन इसके लिए 14 लाख रुपए लगेंगे। छह लाख अभी देने होंगे और आठ लाख पेपर के दौरान देने होंगे। मानसिंह उसकी बातों में आ गया और अपने पिता से छह लाख रुपए लेकर भीखाराम को दे दिए। उसके बाद भीखाराम ने मानसिंह को कहा कि अब उसे परीक्षा देने की जरुरत नहीं है उसकी जगह कोई और परीक्षा देगा। इस पर मानसिंह ने भाीखाराम को मना कर दिया और रुपए वापस लौटाने की बात की। भाीखाराम ने रुपए नहीं लौटाए और फोन उठाना बंद कर दिया। इस बीच धीरज भी वहां से गायब हो गया। कुछ सप्ताह पहले सीकर का रहने वाला वीरेन्द्र सिंह जयपुर में मानसिंह से मिला और उसे कहा कि रीट की तैयारी शुरु कर दो। हमने ठेका ले लिया है और सौ करोड़ रुपए में सैटिंग की गई है। उसने बताया कि भीखाराम ने उसे भेजा है। हर प्रतियोगी की 17 लाख रुपए लगेंगे। छह लाख रपए आपने पहले दे दिए उसे एडजस्ट कर देंगे बाकि ग्यारह लाख रपए और देने होंगे। इनमें से कुछ रुपए वह मांगने लगा और आए दिन कॉल करने लगा। आखिर थक हारकर मानसिंह पुलिस के पास पहुंचा और पूरी जानकारी देकर रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस को जो फोन नंबर दिए गए हैं उनमें से अधिकतर बंद आ रहे हैं। रीट परीक्षा से पहले पुलिस इस बड़े गिरोह को पकडने की तैयारी में जुट गई है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp