दो साल बाद भरेगा गणगौर का मेला - Khulasa Online

दो साल बाद भरेगा गणगौर का मेला

बीकानेर। पागड़ळ्यो रा पाेंच ईशरजी ढीला-ढीला लागै... थो किंणरे आगे शीश झुकायो...बादिला रैन कठे ए गंवाई...। मैं छों ए गवरल गाैरी सुसरोजी राे जंवाई...। कमर रो कंदोलाे भंवरजी ढीलो-ढीलो लागे...। यह गीत गणगौर के है जिसे महिलाएं नहीं पुरुष गाते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि बीकानेर में यह परंपरा सदियों से चली आ रही है। यहां महिलाओं के साथ-साथ पुरुष गणगौर के गीत गाते हैं। धूलंडी के दिन रंग खेलकर घर जाते समय पुरुष गणगौर के गीत गाकर देवी शक्ति की आराधना करते हैं। वे गीतों के माध्यम से कहते है कि होलाष्टक के 10 दिनाें में यदि उनसे कोई गलती हुई हो तो माफ कर देना मां। गीतों का सिलसिला 16 दिन तक चलता है। पंडित जुगल किशोर ओझा पुजारी बाबा, भैरूरतन पुरोहित, सूर्या, अजय देराश्री, शंकर देराश्री की टोलियां गणगौर के गीत गाने कोलकाता तक जाने लगी है। बीकानेर में 400 साल से चली आ रही है यह परंपरा देशभर में बीकानेर में ही गणगौर के गीत पुरुषों द्वारा गाए जाने की परंपरा 400 साल पहले शुरू हुई थी। यहां से पुरुष राजस्थान और देश के कई शहरों में गणगौर के गीत गाने के लिए जाते है। कोलकाता में गणगौर उत्सव पर गणगौर के गीत गाने के लिए बीकानेर से खासतौर पर पुरुषों को बुलाया जाता है। चौतीना कुआं पर होगी पानी पिलाने की रस्म धूलंडी के दिन से चल रही बाली गवर की पूजा अब अंतिम चरण में है। दो दिन तक बाली गवर को कुएं पर पानी पिलाने, गवर संभालने की परंपरा का निर्वहन किया जाएगा। इस बार जस्सूसर गेट व जूनागढ़ के आगे मेला भरेगा। कोरोना के कारण दो साल से मेला नहीं भरा था। बालिकाएं अब अपनी गवर काे विदा करने की तैयारी में जुट गई है। कुछ तीज यानी साेमवार काे गवर काे विदा करेंगी ताे कुछ चाैथ यानी मंगलवार काे। जस्सूसर गेट के अंदर श्री नृसिंह मंदिर पंचायत ट्रस्ट परिसर में बने पुराने कुएं पर बाली गवर को पानी पिलाने की रस्म निभाने की तैयारियाें काे अंतिम रूप दिया जा चुका है। जगह की सफाई कर कार्यकर्ताओं काे जिम्मेदारियां साैंपी गई है। हर साल जूनागढ़ से शाही गणगौर की सवारी निकलती है। जहां चौतीना कुएं पर पानी पीने की रस्म निभाई जाती है। जूनागढ़ मैनेजर कर्नल देवनाथ सिंह ने बताया कि जूनागढ़ से गणगाैर की शाही सवारी शाम छह बजे निकलेगी। इस दाैरान गाजे-बाजे के साथ राजशाही वेशभूषा में गढ़ के कर्मचारी भी शामिल हाेंगे।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp