>

बीकानेर। सीकर जिले में आज सुबह एक जौहरी की दुकान के पास गिरने से मौत हो गई। जौहरी सुभाष चंद सोनी की घंटाघर के पास एक मार्केट में दुकान थी। मौत के बाद शव घर लाया गया, तो पत्नी सुमित्रा ने एकाएक सबको चौंका दिया। वह पहले तो पति के शव को देखती रही। बाद में जब परिजन उसे सांत्वना देने लगे, तो उसने कहा कि वह अपने पति को शाम तक जिंदा कर देगी। यह कहकर वह पति के शव को गोद में लेकर बैठ गई। लोगों के समझाने पर भी वह नहीं मानी। वह परिजनों से शाम चार बजे तक का वक्त मांगने लगी। जिस पर परिजन भी सहमत हो गए। इसके बाद सबकी नजरें शाम चार बजने पर टिक गई। बाद में चार बजने पर भी पति को जिंदा नहीं पाया तो परिजनों ने समझा बुझाकर मृतक का अंतिम संस्कार किया।
जानकारी के अनुसार पति को जिंदा करने की जिद के साथ शव को गोद में रखे पत्नी सुमित्रा धार्मिक किताबें पढऩे लगी थी। इस दौरान उसकी आंख से एक भी आंसू नहीं टपका। परिजनों का कहना था कि करीब नौ वर्ष पहले स्कूल से लौटते समय शहर के चांदपोल गेट के पास सड़क दुर्घटना में उसकी बेटी की मौत हो गई थी। उसके बाद से वह टूट चूकी थी। सुमित्रा के एक बेटा भी है।
बंद हुआ बाजार
सुभाष चंद की मौत के बाद घंटाघर के आसपास का बाजार बंद हो गया। व्यापारियों ने दिनभर अपनी दुकान नहीं खोली। हर जगह सुभाष चंद की अचानक हुई मौत की चर्चा थी। घटना की सूचना पुलिस को भी दी गई थी। पुलिस ने भी मौके पर पहुंच नजदीकी लोगों के बयान लिए।