>



 महिला को चोरी करते रंगों हाथों पकड़ा
बीकानेर। पीबीएम में मरीज व उसके परिजन सुरक्षित नहीं है। आएं दिन मरीजों व उनके परिजनों के सामान चोरी होने की घटनाएं बढ़ती ही जा रही है। कहने को तो पीबीएम में सुरक्षा के लिहाज से 150 से ज्यादा गार्ड लगाएं गये है। किन्तु ये गार्ड क्या काम कर रहे है। इसका कोई जबाबदेही नहीं है। मरीजों व उनके परिजनों के सामान चोरी होने के साथ साथ अब जेब कतरने की घटनाएं भी आम हो गई। सोमवार को हल्दीराम मूलचंद हार्ट अस्पताल में बीकानेर के बाहर से आएं एक मरीज की जेब तराशती एक महिला को रंगे हाथों पकड़ा। बताया जा रहा है कि रतनलाल नाम के मरीज के परिजन की जेब से जैसे ही हाथ की सफाई करने लगी कि रतनलाल को आभास हो गया और उन्होंने तुरंत उस महिला को पकड़ लिया। बाद में अस्पताल प्रबंधन को इसकी सूचना दी। मौके पर खड़े सजग व्यक्ति दिनेश गुप्ता ने पीबीएम स्थित पुलिस चौकी को जानकारी दी। जिसके बाद पहु्रंची पुलिस ने महिला को पकड़ चौकी ले आएं। अस्पताल में अचानक हुई इस घटना से अफरा तफरी का माहौल हो गया।
पूर्व में हो चुकी है ऐसी वारदातें
गौरतलब रहे कि पीबीएम में जेब तराशना,मोबाइल चुराने,सामान चुराने की यह कोई नहीं घटना नहीं है। पूर्व में भी इस तरफ ही घटनाएं हो चुकी है। लेकिन पीबीएम प्रशासन इसको लेकर आज तक गंभीर नहीं हुआ है। इससे ऐसा लगता है कि पीबीएम में आने वाले रोगी व उनके परिजन रामभरोसे है। कहने को यहां सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया जाता है,परन्तु उनकी तैनातगी व सतर्कता सवालों के घेरे में है।