>



बीकानेर। छात्र संघ चुनाव को राजनीति की प्रथम सीढ़ी कहा जाता है और आमतौर पर छात्र संघ चुनाव जीतकर राजनीति में अपना भविष्य तलाशते है। जिसके लिये पाटियों के वरिष्ठ नेताओं को छात्र संघ क ार्यालय के उद्घाटन अवसर पर बुलकार राजनीति में आने का मार्ग प्रशस्त करते है। लेकिन ऐसे बिरले छात्र नेता ही होते है। जो छात्र संघ पदाधिकारी बन विद्यार्थियों के हित को साधते है। इनमें से एक है रामपुरिया जैन पी जी कॉलेज के छात्र संघ अध्यक्ष हेमन्त सुथार। जी हां हेमन्त ने अलग सोच के साथ विद्यार्थियों के हित का काम करते हुए एक नवाचार किया। उनके इस कार्य में उनके साथ चुने गये पदाधिकारियों का सहयोग भी अनुकरणीय रहा। अब आप सोचेगें कि आखिर रामपुरिया जैन कॉलेज के छात्र संघ पदाधिकारियों ने ऐसा क्या किया कि वे अचानक मीडिया में चर्चा का विषय बन गये। रामपुरिया कॉलेज अध्यक्ष हेमन्त सुथार ने अपनी कार्यकारिणी के साथी कृष्णकांत व्यास,कुलदीप महात्मा व धीरज पुरी से एक राय हो ऐसा निर्णय लिया जो आने वाले समय में सभी पदाधिकारियों के लिये मील का पत्थर साबित होगा। हेमन्त ने छात्र संघ कार्यालय का उद्घाटन कार्यक्रम न कर समारोह में लगने वाली राशि से कॉलेज में अध्यापन के लिये पुस्तकें मंगवाई और प्राचार्य डॉ पंकज जैन को सुपुर्द की। बताया जा रहा है कि छात्र संघ 2019 – 20 के पदाधिकारियों ने छात्र हितों की दिशा में प्रादेशिक स्तर पर एक अनूठी सकारात्मक पहल करते हुए सम्पूर्ण छात्र कोष से पुस्तकालय में पुस्तकें खरीद का प्रस्ताव रखा। छात्रसंघ अध्यक्ष हेमन्त सुथार ने बताया कि उन्होंने आपसी सहमति से छात्र हितों की दिशा में कॉलेज के प्राचार्य से छात्र संघ कार्यालय के उद्घाटन समारोह के बजाय इस कोष का सदुपयोग विद्यार्थियों के अध्ययन हेतु पुस्तकालय में 130 पुस्तकों की खरीद हेतु निवेदन किया जिसे प्राचार्य ने सहर्ष स्वीकृति देते हुए पुस्तकों की खरीद की।
प्राचार्य व कॉलेज स्टॉफ ने की सराहना
कॉलेज प्राचार्य डॉ पंकज जैन ने पदाधिकारियों के इस पुनीत कार्य की सराहना करते हुए बताया कि इस कॉलेज के इतिहास में यह प्रथम अनूठा नवाचार है। इसका संदेश निश्चित रूप से प्रदेश के विभिन्न क ॉलेजों के छात्रसंघ पदाधिकारियों के लिए अनुकरणीय रहेगा। इस अवसर पर व्याख्यता आत्माराम शर्मा,महेन्द्र पंचारिया,मनोज सेठिया,अनिकेत कच्छावा,उमेश तंवर,शालिनी,गायत्री सुथार,शकीला बानो,प्रेरणा बिस्सा सहित समस्त स्टाफ मौजूद रहा तथा महाविद्यालय परिवार ने छात्र संघ पदाधिकारियों का ऐसी पुनीत भावना व्यक्त करने के लिए अभिनन्दन किया।
फिजूलखर्च पर लगाम का प्रयास
अध्यक्ष हेमत सुथार,उपाध्यक्ष कृष्णकांत व्यास,महासचिव कुलदीप महात्मा व संयुक्त सचिव धीरज पुरी ने बताया कि छात्रसंघ कार्यालय के उद्घाटन समारोह जैसे आयोजन महज दिखावा और फिजूलखर्च का माध्यम है। इससे न केवल जीते हुए पदाधिकारियों में अतिथियों को बुलाने पर क टुता होती है,बल्कि छात्र नेताओं के माध्यम से राजनेता अपना उल्लू सीधा करते है। उन्होंने कहा कि ऐसे अनेक उदाहरण पूर्व में देखने को भी मिले है। इससे अच्छा इस बजट का सदुपयोग छात्र हित के लिये किया जाना चाहिए।