>

 बीकानेर –   एन..आर. असवाल चेरिटेबल संस्थान की ओर से माह के अंतिम रविवार को आई.टी.आई.चैराहा स्थित वरदान अस्पताल में विशाल निःशुल्क चिकित्सा शिविर आयोजित किया गया। शिविर में आधा दर्जन विशेषज्ञ चिकित्सकों ने 287 रोगियों के स्वास्थ्य की जांच कर उन्हें उचित परामर्श दिया। कई रोगियों को निःशुल्क दवाइयां दी गई।

शिविर का उद्घाटन करते हुए ब्रह्म गायत्री शक्तिपीठ  देवीकुंड सागर के अधिष्ठाता रामेश्वरानंद महाराज ने कहा कि पीड़ित मानवता को समर्पित इस कैंप से प्रेरणा लेकर लोगों की सेवा भावना के साथ बेहतर चिकित्सा सुविधा प्रदान करें। चिकित्सा के इस सेवा कार्य में व्यवसायिकता की बजाए मानवता को सर्वोपरि रखे। रोगियों को दवा के साथ आत्म संबंल भी दे तथा उनके साथ अच्छा व्यवहार रखे। रोगियों के हौसले को बनाएं रखते हुए स्नेह व आत्मीयता रखते हुए चिकित्सा कार्य करें ।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए सूचना एवं जन सम्पर्क कार्यालय के उप निदेशक विकास हर्ष ने कहा की समाज सेवी श्री एन.आर.असवाल की स्मृति में चेरिटेबल संस्थान स्थापित कर चिकित्सा व समाज सेवा का कार्य कर पीड़ित मानव की सेवा करना उतम धर्म व नेक कार्य है । उन्होंने शिविर में सेवाएं देने वाले चिकित्सकों को स्मति चिन्ह तथा वरदान अस्पताल के माध्यम से नशे की प्रवति को त्याग कर व्यसन मुक्त जीवन जीने वाले एक युवक अभिनंदन किया।

शिविर में फोर्टिस अस्पताल के श्ूागर, बी.पी.थाइराइड रोग विशेषज्ञ तथा जनरल फिजिशियन डाॅ.विनोद असवाल,कान नाक व गला रोग विशेषज्ञ डाॅ.अरिवल असवाल, वरदान अस्पताल के प्रबंध निदेशक व मनोरोग विशेषज्ञ डाॅ. सिद्धार्थ असवाल, हडडी एवं जोड रोग विशेषज्ञ डा. अमित शर्मा, पी.बी.एम.अस्पताल के ग्रेस्ट्रो,लेप्रोस्कोपिक-बैरियोट्रिक सर्जन तथा एसोसिएट प्रोफसर डाॅ.एम.एल.दवां, तथा फोर्टिस अस्पताल के बाल एवं शिशु रोग विशेषज्ञ डाॅ.निशांत अहमद तथा पैरोमेडिकल, नर्सिंग स्टाॅफ तथा तकनीशियन ने सेवाएं दी तथा विभिन्न तरह की जांचें की। शिविर के उद्घाटन अवसर पर स्वास्थ्य चर्चा आयोजित की गई जिसमें अलग-अलग रोग व उनके उपचार के बारे में रोगियों के प्रश्नों के उत्तर चिकित्सकों ने दिए। शिविर में युवाओं मंे नशाखोरी की प्रवृति को रोकने के लिए जन जागति की आवश्यकता जताई तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं ने डाॅ.सिद्धार्थ असवाल के नेतृत्व मंें चलाए जा रहे नशा मुक्ति अभियान में सक्रिय भागीदारी का संकल्प दोहराया।