>



बीकानेर / चूरू। राजस्‍थान में जादू-टोने और अंधविश्वास के नाम पर महिलाओं पर किए जाने वाले अत्याचार की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं. ऐसा ही एक शर्मनाक और दिल को दहला देने वाला मामला चूरू जिले की सादुलपुर तहसील के गांव लम्बोर छोटी में सामने आया है. यहां एक 40 साल की एक महिला पर जादू-टोना करने का आरोप लगाते हुए उन पर कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया गया.
महिला के जेठ ने ही किया हमला
जानकारी के मुताबिक, जानलेवा हमला करने का आरोपी कोई ओर नहीं, बल्कि महिला का जेठ रघुवीर है. वह पिछले दो साल से महिला पर जादू-टोना करने का आरोप लगाते हुए उन्‍हें प्रताडि़त कर रहा था. आरोप है कि शनिवार को जब पीडि़ता इन्द्रो देवी कचरा डालने घर से बाहर निकलीं तो घात लगाए बैठे आरोपी ने महिला के सिर पर पीछे से कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला कर दिया. आरोपी ने महिला के सिर पर कुल्हाड़ी से तब तक वार किये जब तक वह बेहोश होकर जमीन पर नहीं गिर गईं.
अस्पताल में चल रहा इलाज
बाद में घायल इन्द्रो देवी को परिजन पहले सादुलपुर के राजकीय रेफरल अस्पताल लेकर गए. वहां उन्‍हें प्राथमिक उपचार के बाद चूरू मुख्यालय के राजकीय भारतीय अस्पताल रेफर किया गया है. यहां उनका इलाज जारी है. पुलिस के आंकड़ों के अनुसार, जादू-टोना, अंधविश्वास और डायन के शक में राजस्थान में पिछले दो वर्षों में महिलाओं पर अत्याचार के करीब 70 से अधिक मामले सामने आए हैं. पुलिस-प्रशासन के तमाम दावों के बावजूद इस तरह की घटनाओं पर रोक नहीं लगाई जा सकी है.
मेवाड़ में कई मामले आ चुके हैं सामने
उल्लेखनीय है के प्रदेश के मेवाड़ इलाके में भी जादू-टोने के नाम पर प्रताडऩा के कई मामले सामने आ चुके हैं. वहां तो बच्चे के बीमार होने पर उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाने की बजाय अंधविश्वास में जकड़े लोग भोपों के पास ले जाते हैं. वहां भोपे गर्म चिमटों से मासूमों को जगह-जगह से दाग देते हैं. वहीं, कई महिलाओं को डायन बताकर उनसे जबर्दस्त मारपीट की जाती है