>



बाल विकास एवं संरक्षण समिति की बैठक आयोजित
बीकानेर। बाल विकास एवं संरक्षण समिति के कार्यों में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मदद करने के इच्छुक लोगों को जोड़ने के उददेश्य से समिति की एक वेबसाइट विकसित की जाएगी, ताकि वेबसाइट के माध्यम से समिति से और अधिक लोग जुड़ सकें और यहां आर्थिक संसाधनों के साथ-साथ अन्य जरूरतमंद बालिकाओं को सम्मान के साथ रहने का अवसर प्राप्त हो सके।जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने बताया कि वेबसाइट बनाने का कार्य अगले 1 सप्ताह में सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के माध्यम से पूर्ण कर लिया जाएगा। गौतम बुधवार को राजकीय बालिका गृह में बाल अधिकारिता विभाग की ओर से संचालित बाल विकास एवं संरक्षण समिति की बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में समिति द्वारा बालिका गृह उड़ान भवन में संचालित हो रहा है।  उन्होंने कहा कि यहां कुल 30 बच्चियां रह सके, इसके लिए सभी आधारभूत सुविधाएं विकसित करने के लिए वर्तमान में जो भवन है इसी पर एक मंजिल भवन और बना लिया जाए जिससे यहां 30 बच्चियां आवास हो सके और उन्हें गुणवत्ता युक्त भोजन के साथ-साथ अन्य सुविधाएं और शिक्षा का एक ऐसा माहौल मिले जिससे वे अपना जीवन संवार सके। गौतम ने कहा कि बच्चियों की पढ़ाई पर विशेष ध्यान दिया जाए, अगर किसी बच्चे की मेडिकल इंजीनियरिंग या प्रशासनिक सेवा में जाने की रुचि हो तो उसके लिए इस स्तर की पढ़ाई भी उपलब्ध हो जाए इसके भी पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे।

समिति के सदस्य जुडेंगे व्हाट््सऐप ग्रुप से
जिला कलक्टर ने कहा कि तकनीक के इस दौर में उड़ान भवन में संचालित बाल विकास एवं संरक्षण समिति की संपूर्ण जानकारी वेबसाइट के माध्यम से उपलब्ध करवाई जाएगी। साथ ही समिति से जुड़े सभी लोगों का एक व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया जाएगा ताकि किसी चीज की जरूरत होने पर व्हाट्सएप पर मैसेज हो जाए और जिससे लोग स्वविवेक से ही सामान उपलब्ध करवा सके।बैठक में बताया कि आधारभूत सुविधाओं सहित अन्य सुविधाओं के लिए अगर तत्काल आर्थिक इमदाद की जरूरत हुई तो मस्त मंडल सेवा द्वारा आवश्यक सहयोग किया जाएगा । मस्त मंडल सेवा के महावीर रांका ने बैठक में उपस्थित सभी सदस्यों को यह विश्वास दिलाया।

कौशल प्रशिक्षण भवन शीघ्र बन जाए
इससे पूर्व जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने बाल विकास एवं संरक्षण समिति परिसर में बन रहे कौशल प्रशिक्षण केंद्र के निर्माण कार्यों का भी निरीक्षण किया। गौतम ने सहायक निदेशक बाल अधिकारिता को निर्देश दिए कि यह भवन शीघ्र बन जाए और पूर्ण गुणवत्ता के साथ बने। गौतम ने बताया कि भवन बन जाने से बालिका गृह, किशोर गृह एवं नारी निकेतन में आवासित छात्र-छात्राओं को कौशल प्रशिक्षण से जोड़ा जाएगा। गौतम ने भवन चल रहे निर्माण कार्यों को देखा और भवन तक पहुंचने का रास्ता मुख्य मार्ग से सीधा जोड़ने के लिए न्यास सचिव को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि न्यास सचिव मेघराज सिंह अभियंताओं के साथ गुरुवार को इस पूरे परिसर का निरीक्षण कर कौशल प्रशिक्षण केंद्र तक पहुंचने का रास्ता विकसित करने का करने की कार्य योजना बनाएं।

किचन गार्डन विकसित किया जाए
जिला कलक्टर ने कहा कि समिति परिसर में किचन गार्डन विकसित करने पर विशेष ध्यान दिया जाए। गौतम ने कहा कि यहां किचन गार्डन का निर्माण हो जाने से बच्चियों को पौष्टिक सब्जियां परिसर से ही उपलब्ध हो सकेगी साथ ही आवासित बच्चियों में किचन गार्डन कौशल के प्रति भी रूचि पैदा होने में मदद मिलेगी। बैठक में यूआईटी के पूर्व अध्यक्ष तथा मस्त मंडल सेवा के महावीर रांका, अतिरिक्त जिला कलक्टर (शहर) सुनीता चैधरी, नगर विकास न्यास सचिव मेघराज सिंह मीना, दीपाली धवन, सहायक निदेशक बाल अधिकारिता कविता स्वामी, लक्ष्मण राघव उपस्थित थे।