>



बीकानेर। ट्रेन में यात्रा के लिए सबसे ज्यादा जरूरी होती है टिकट। ट्रेन पकडऩे की जल्दबाजी में कई बार यात्री टिकट घर ही भूल जाता है। कभी ट्रेन में पहुंचने से पहले टिकट गुम जाती है। ऐसा होने पर यात्रा के दौरान मन में डर होता है कि टीटीई आ गया तो क्या करेंगे। कहीं भारी जुर्माना नहीं भरना पड़ जाए। अगर अब ऐसा कुछ हो जाता है तो चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। आपने टिकट खरीदा है और टिकट गुम हो गया है या किसी कारण से आपको मिल नहीं रहा है तो ऐसे में अब घबराने की जरूरत नहीं है। इसके लिए भी नियम बनाए गए हैं, लेकिन ऐसे में नियमों की अच्छी जानकारी होना आवश्यक है। जानकारी नहीं होने पर टिकट चेक करने वाला टीटीई उसका फायदा उठा सकता है। आपसे जुर्माने के तौर पर रुपए वसूल सकता है। टिकट नहीं होने की दशा में तुरंत टीटीई से संपर्क करें। पूरी बात बताएं और एक नया टिकट देने लिए कहें। इस पर टीईटी कुछ अतिरिक्त चार्ज लेकर नया टिकट जारी कर देता है। टिकट गुम होने पर यात्री को स्यवं टीटीई के पास जाकर निवेदन करना होगा।
जुर्माना भरकर ले सकते है नया टिकट : यदि आपका टिकट खो गया है तो आपके मोबाइल में टिकट दिखाने की सुविधा नहीं है तो आप 50 रुपए जुर्माना भरकर नया टिकट ले सकते है। टिकट नहीं होने की दशा में तुरंत टीटीई से संपर्क करें। उसे पुरी बात बताएं। एक नया टिकट देने के लिए कहें। इस पर टीईटी कुछ अतिरिक्त चार्ज लेकर नया टिकट जारी कर देता है। ध्यान रहे टिकट गुम होने पर यात्री को स्वयं चलकर टीटीई के पास जाकर निवेदन करना होगा। अगर आप स्वयं नहीं गए। टीटीई ने टिकट मांगा तो ऐसी सूरत में आपका चालान हो सकता है।
मामूली शुल्क देकर बढ़ा सकते हैं यात्रा : रेलवे यात्रियों को कई तरह की सुविधा देता है, जिनकी जानकारी यात्री को अवश्य होनी चाहिए। इससे टीटीई को अतिरिक्त पैसे देने से बचा जा सकता है। सीनियर डीसीएम जितेंद्र मीणा ने बताया कि यदि आपको किसी कारण से तय स्टेशन से आगे की यात्रा जारी करनी है तो टिकट को अगले स्टेशन तक बढ़ाया भी जा सकता है। अलग से मामूली शुल्क का भुगतान टीटीई को करना होता है।