बीकानेर। बेसिक पी.जी. महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाई के विशेष शिविर के दूसरे दिन शिविर स्थल श्रीरामसर गाँव के हर्षोल्लाव तालाब पर स्वयंसेवकों को श्रमदान करते हुए स्वच्छता का जीवन में विशेष महत्व समझाया गया।”स्वच्छ भारत अभियानÓÓ के बारे में जानकारी देते हुए महाविद्यालय व्याख्याता लियाकत अली ने बताया कि यह हमारे देश को स्वच्छ बनाने के लिए भारत सरकार की नई योजना है जिसका 2 अक्टूबर 2014 को उद्घाटन किया गया। हमारे देश के विकास में बाधा पहुंचाने वाली समस्याओं में से एक मुख्य कारण गंदगी है। इस अवसर पर महाविद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष रामजी व्यास ने बताया कि हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए दिल्ली की वाल्मीकि बस्ती में सड़कों पर झाडू लगाई थी। जिससे देश के लोगों में जागरूकता आए कि अगर देश का प्रधानमंत्री देश को स्वच्छ करने के लिए सड़क पर झाडू लगा सकता है तो हमें भी देश को स्वच्छ रखने के लिए अपने आस-पास सफाई रखनी होगी। प्राचार्य डॉ. सुरेश पुरोहित ने छात्रों को श्रमदान का जीवन में विशेष महत्व बताते हुए कहा कि अपने उद्देश्य की प्राप्ति तक भारत में ”स्वच्छ भारत अभियानÓÓ मिशन की कार्यवाही निरन्तर चलती रहनी चाहिए। कार्यक्रम अधिकारी डॉ. मुकेश ओझा ने अपने पुराने अनुभव स्वयंसेवकों के सामने साझा करते हुए कहा कि हमें केवल बौद्धिक श्रम के साथ-साथ शारीरिक श्रम का महत्व भी जानना चाहिए, क्योंकि दोनों प्रकार के श्रम से ही मनुष्यता को आगे बढ़ाया जा सकता है।इसके पश्चात् अतिथियों ने रासेयो के स्वयंसेवकों के साथ मिलकर श्रमदान भी किया गया। रासेयो के स्वयंसेवकों ने श्रीरामसर गाँव में स्थित हर्षोल्लाव तालाब मन्दिर के आस-पास के क्षेत्रों में भी कूड़े को एकत्रित कर नष्ट किया।