>


बीकानेर। प्रदेशभर के सरकारी स्कूलों में नामांकन बढ़ाने और ठहराव सुनिश्चित करने की शिक्षा विभाग ने तैयारी कर ली है। अब गुरुजी घर-घर जाकर अभिभावकों से संपर्क करेंगे और स्कूलों में नामांकन बढ़ाएंगे।इसमें किसी भी प्रकार की कोताही बरतने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि पहले शिक्षक इसका विरोध कर रहे थे, लेकिन अब शिक्षा विभाग ने नामांकन बढ़ाने वाले शिक्षकों को पुरस्कृत करने और अन्य योजनाओं में लाभ देने की भी बात कही है।ग्रीष्मावकाश के बाद स्कूल खुलने के साथ ही 24 जून से इस संबंध में काम शुरू हो जाएगा। शिक्षक कक्षा 9 से 12 में अध्ययनरत विद्यार्थियों की एक टीम तैयार करेंगे। इस टीम में 10 सदस्य होंगे। ये सभी सदस्य शिक्षकों के साथ डोर-टू-डोर संपर्क करेंगे और स्कूल नहीं जाने वाले विद्यार्थियों को स्कूल में दाखिला दिलाने के लिए उनके अभिभावकों को प्रेरित करेंगे। इसके साथ ही ये शिक्षक और विद्यार्थी बीच सत्र में पढ़ाई छोड़ चुके विद्यार्थियों को भी फिर से शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ेंगे।
ये की गाइड लाइन तय
24 जून को ग्रीष्मावकाश के बाद फिर से स्कूल खुल जाएंगे, इसके साथ ही 24 जून को स्काउट, गाइड के साथ शिक्षक एक बैठक करेंगे। इस बैठक में प्रवेशोत्सव व बाल सभा के संबंध में जानकारी दी जाएगी। 25 जून को बालसभा सभा के संबंध में गांव व स्कूल के आसपास के लोंगों से संपर्क साधा जाएगा। 26 जून को मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी प्रगति रिपोर्ट जानेंगे। 27 जून को सामुदायिक बाल सभाओं के लिए जन प्रतिनिधियों को पीले चावल बांटकर आमंत्रित किया जाएगा। इसके बाद यह कार्य निरंतर चलता रहेगा। 2 जुलाई को बालसभा होगी। बालसभा में आने वाले जनप्रतिनिधियों और अभिभावकों को स्कूल नहीं जाने वाले विद्यार्थियों का स्कूलों में अधिक से अधिक प्रवेश कराने के लिए प्रेरित किया जाएगा।