जयपुर । भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया दुबारा पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद एक्शन में आ गए है और उन्होंने सख्ती भी दिखानी शुरू कर दी है। पूनिया ने भरतपुर नगर निगम निकाय चुनाव में पार्टी विरोधी गतिविधियों को लेकर कुछ नेताओं पर कार्रवाई की है और उन्हें निलंबित भी कर दिया है। पार्टी विरोधी शिकायतों के चलते पूर्व विधायक विजय बंसल, पूर्व महापौर शिव सिंह भौंट और अलवर नगर परिषद पार्षद सीताराम चौधरी को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित किया गया है। आपको बता दें कि सतीश पूनिया ने 27 दिसंबर को प्रदेशाध्यक्ष पद पर अपनी दुबारा नियुक्ति के बाद साफ कहा था कि पहले वे कच्चे अध्यक्ष थे अब वो पक्के हो गए है ऐसे में कोई भी छोटा या बड़ा नेता पार्टी में गड़बड़ी करेगा तो उसे अनुशासनहीनता माना जाएगा और उस पर कार्रवाई करेंगे। ऐसे में पूर्व विधायक विजय बंसल, पूर्व महापौर भौंट और एक पार्षद को निकालने की कार्रवाई को इसी से जोड़कर देखा जा रहा है। भरतपुर नगर निगम के चुनाव में भाजपा को कांग्रेस से ज्यादा सीट मिली थी। वहां के पार्षदों ने मेयर के चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार को अपना समर्थन और वोट देकर मेयर बनवा दिया था। इसको लेकर इन नेताओं के खिलाफ शिकायतें आ रही थी। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में पूनिया निकाय चुनाव में कई अन्य जगहों पर पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण कुछ और नेताओं और कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई कर सकते है। साथ ही इससे आने वाले पंचायत चुनाव में भी पार्टी नेता और कार्यकर्ता अच्छे से काम करेंगे और पार्टी विरोधी गतिविधियों पर लगाम कस पाएगी। आने वाले दिनों में पूनिया प्रदेश कार्यकारिणी में भी बदलाव करेंगे। लगभग 5 साल के बाद यह बदलाव किया जाएगा। माना जा रहा है कि पंचायत चुनाव के बाद सतीश पूनियां अपनी नई कार्यकारिणी का गठन करेंगे।