>


खुलासा न्यूज़, बीकानेर। देहात कांग्रेस के जिलाध्यक्ष महेन्द्र गहलोत के एक पत्र से बीकानेर में खलबली सी मच गई है। चर्चाओं से बाजार गरमाया हुआ है। कई तरह के कयास लगाए जा रहे है कि आखिर महेन्द्र गहलोत रामेश्वर डूडी को छोडेंगे या अशोक गहलोत को ?
दरअसल मामला यह है कि महेंद्र गहलोत ने प्रदेश के डिप्टी सीएम सचिन पायलट को एक पत्र लिखकर केश कला बोर्ड के अध्यक्ष के लिए अपना नाम प्रस्तावित किया है, लेकिन इसके साथ ही उन्होंने सशर्त साथ देने का प्रस्ताव भी दिया है। गहलोत ने यह भी कहा है कि बीकानेर में नाई (सेन) समाज के 35लाख वोट हैं और यह भी कहा है कि इस समाज के किसी भी व्यक्ति को कांग्रेस ने लोकसभा या राज्यसभा से टिकट नहीं दिया है। ऐसे में अगर उन्हें मौका मिलता है, तो समाज के लोग कांग्रेस से जुड़ेंगे।
इस पत्र के अंत में जो लिखा हुआ वह राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बना हुआ है। इस फुटनोट में लिखा है कि अगर आपके द्वारा मुझे केश कला बोर्ड का अध्यक्ष बनाया जाता है तो मैं सबको छोड़कर हमेशा के आपके साथ रहूंगा।
इस फुट-नोट ने एक नई चर्चा छेड़ दी है कि आखिर महेंद्र गहलोत किसका साथ छोडऩा चाहते हैं और किसके साथ जाने के लिए उत्सुक हैं।