>


खुलासा न्यूज़, बीकानेर। देहज हत्या के मामले में पीडि़त पक्ष से पचास हजार रूपये की रिश्वत लेते गये हत्थे चढे नोखा सीओं महमुद का मामला खाकी हल्कों की सुर्खिया बना हुआ है। हालांकि महमुद खान का पकड़ा जाना एसीबी की बड़ी सफलता है,लेकिन बीकानेर पुलिस में ऐसे कई महमुद तैनात है जो आंकठ तक घूसखोरी में लिप्त है। इनकी घूसखोरी के किस्से आये दिन सुनाई देते है लेकिन इनके पकड़े का मुहुर्त अभी तक नहीं निकला है।

घूसखोरी के कई मेहमूदों ने तो यहां अपने ऐजेंट तक छोड़ रखे है,पुलिस से जुड़े हर मामले में अपनी हिस्सेदारी रखते है। पता चला है कि जिप्सम और बजरी खनन हल्कों वाले मेहमूद तो बड़ा खेल कर जाते है और किसी को भनक भी नहीं लगने देते। वहीं सदर सर्किल में तैनात एक मेहमूद के बारे में अभी दो दिन पहले ही शहर का एक नामी सर्राफा कारोबारी अपनी पीड़ा जाहिर कर रहा था। देह शोषण में फंसे इस सर्राफा कारोबारी के मुताबिक जबसे मेरे मामले फाईल जबसे सदर सर्किल वाले मेहमूद के पास गई है तब उसकी लागत दुगुनी हो गई है,लेकिन फिलहाल सब खैरियत है।