बीकानेर। वैसे तो शहर की सिरत व सूरत सुधारने के लिये जिला कलक्टर खासे प्रयासरत है,लेकिन उनके इन प्रयासों को अनेक बार धक्का भी लगता है। जिसके चलते आमजन को खासा परेशान होना पड़ता है। कुछ ऐसा ही इन दिनों देखने को मिल रहा है। जब शादियों के सीजन में डीजे वाले सरकारी आदेशों की न केवल अवहेलना कर रहे है,बल्कि खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे है। हालात ये है कि चार दिनों बाद ही सीबीएसई की दसवीं – बाहरवीं की परीक्षा शुरू होने वाली है। जबकि एमजीएसयू के प्राईवेट विद्यार्थियों की परीक्षा चल रही है। उसके बाद शहर में खुलेआम डीजे बजाएं जा रहे है। जिसके काण पढ़ाई में व्यवधान हो रहा है। अगर कोई पड़ोसी अपने नजदीकी पुलिस थाने में शिकायत भी कर दे तो पुलिस वाले आकर उसका नाम बता देते है कि इसने शिकायत की है। इसके कारण पड़ौसी में आपसे में झगड़ा भी हो जाता है। गश्त करने वाली पुलिस टीम भी डीजे बंद नहीं करवाते है। जबकि जिला कलेक्टर कुमार गोतम पाल ने एक आदेश जारी किये थे शहर में 10 बजे के बाद डीजे बजाने पर पूर्णता पाबंदी रहेगी। लेकिन डीजे वाले कलेक्टर के आदेशों की धज्जियां जमकर उड़ रहे है।
नहीं लेते अनुमति
जानकारी मिली है कि जिला कलक्टर ने पूर्व में एक आदेश निकालकर डीजे वालों को अनुमति लेने के दिशा निर्देश भी दिए थे। किन्तु डीजे वाले न तो किसी प्रकार की अनुमति लेते है और न ही समयावधि के बाद डीजे बंद करते है। ऐसे में डीजे की तेज आवाज के चलते विद्यार्थियों और गंभीर रोग से ग्रसित रोगियों को दिक्कत का सामना करना पड़ता है।