>


अजमेर। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अगले सप्ताह के शुरुआत दिनों में कक्षा 10वीं का रिजल्ट जारी कर सकता है। बताया जा रहा है कि रिजल्ट तैयार करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। बोर्ड नतीजों को फाइनल टच देने में जुटा हुआ है। राजस्थान बोर्ड कक्षा 12वीं की तीनों स्ट्रीम साइंस, कॉमर्स और आर्ट्स का रिजल्ट जारी कर चुका है। ऐसे में अब नतीजों को लेकर 10वीं के लाखों छात्रों की उत्सुकता बढ़ती जा रही है।नतीजे जारी होने के बाद छात्र-छात्राओं को अपने करियर की दिशा करनी होगी। रिजल्ट के बाद स्टूडेंट्स के वो दरवाजे खुलेंगे जिसका सपना उन्होंने बचपन से संजो रखा है। विद्यार्थियों को रिजल्ट आने से पहले का यह समय व्यर्थ नहीं करना चाहिए। यहां हम बता रहे हैं वो काम जो उन्हें रिजल्ट की घोषणा से पहले करने चाहिए।
-11वीं में प्रवेश लेते समय आपको साइंस, कॉमर्स व आर्ट्स में से किसी एक को चुनना होगा। फैसले से पहले जरूरी है कि आप हर स्ट्रीम की पूरी जानकारी लें। आर्टस हो, विज्ञान हो या फिर कॉमर्स। हर स्ट्रीम में आगे क्या संभावनाएं है, आपकी रूचि के हिसाब से क्या वो स्ट्रीम आपके लिए बेहतर है। ये जानना बेहद जरूरी है। आमतौर पर देखा जाता है कि स्ट्रीम चयन में माता पिता का दबाव देखने को मिलता है ज्यादातर छात्र अपने अभिभावकों के दबाव में आकर स्ट्रीम का चयन तो कर लेते हैं लेकिन अपने इच्छानुसार स्ट्रीम न मिलने के कारण अपना बेस्ट नहीं दे पाते। इसीलिए जरूरी है कि किसी के दबाव में आकर कोई फैसला न लें। अपने दिमाग में पहले ये सेट कर लें कि आपकी रुचि किस सब्जेक्ट में है और भविष्य में क्या बनना चाहते हैं। उस हिसाब से आर्ट्स, कॉमर्स या साइंस चुनें।
निर्णय लेने के दौरान इन बातों पर गौर करना चाहिए-
– रुचि को दें प्राथमिकता
– जुनून का आकलन करें
– अपनी शक्तियों और कमजोरियों का विश्लेषण करें
– सही करियर विकल्प की पहचान करें
– दूसरों की मदद लें
– ज्यादा कंफ्यूजन हो तो करियर काउंसलर से बात कर स्ट्रीम चुनें
– लोगों की नहीं करें परवाह
– अपने वरिष्ठ / अभिभावक / शिक्षक के साथ चर्चा करें।
मानसिक तनाव न लें और सक्सेस स्टोरीज़ पढ़ें
रिजल्ट आने से पहले, उसके आने पर और उसके आने के बाद आपको तनाव लेने की जरूरत नहीं है। मार्क्स ही सब कुछ नहीं होते हैं। देश और दुनिया में एक से एक सफल लोगों की कहानियां पढ़ें, उनके संघर्ष की गाथाएं जानें, आपको पता लग जाएगा कि मार्क्स कतई आपके करियर का फैसला नहीं कर सकते। टॉपर होना, औसत अंक आना या फेल होने जैसी बातें इस बात की गारंटी नहीं होते कि आप भविष्य में कितने कामयाब होंगे या फिर आप कितने पैसे कमाएंगे।