>




खुलासा न्यूज,बीकानेर। इंदिरा गांधी नहर की मरम्मत के चलते इन दिनों जलदाय विभाग अपनी टंकियों की सफाई में भी जुटा हुआ है। यही कारण है कि शहर में बिना ट्रीटमेंट के ही पानी की आपूर्ति हो गई, जिससे पेट दर्द और उल्टी-दस्त के रोगी अस्पताल पहुंच गए। स्वयं अधीक्षण अभियंता ने स्वीकार किया है कि कुछ क्षेत्रों में रंगीन पानी की आपूर्ति हो गई थी।दरअसल, बीकानेर में पिछले दो-तीन दिन से दूषित पेयजल आपूर्ति हो रही थी। मटमैला और काई के साथ आ रहे इस पानी में फफूंद भी नजर आ रही है। आमतौर पर जलदाय विभाग से आने वाले पानी को पीने के काम लिया जाता है। यही कारण है कि बड़ी संख्या में लोगों ने यह पानी पी लिया। इनमें कई लोग पेट दर्द और उल्टी-दस्त के कारण अस्पताल पहुंच रहे हैं।इस बारे में जलदाय विभाग के अधीक्षण अभियंता दीपक बंसल ने कुछ क्षेत्रों में रंगीन पानी पहुंचना स्वीकार किया। उन्होंने बताया कि इस आशय की शिकायत पर तुरंत कार्रवाई की गई है। उन घरों से पानी के सेम्पल भी लिए गए हैं। उन्होंने बताया कि नहर से ही दूषित पानी की आपूर्ति हो गई है, जिससे घरों तक यह पानी पहुंच गया।
इन क्षेत्रों में बुधवार को भी दूषित पानी
शहर के मुरलीधर व्यास नगर, नयाशहर थाना क्षेत्र, एमएम ग्राऊंड, जवाहर नगर, अंत्योदय नगर, जस्सूसर गेट, ईदगाह बारी सहित अनेक क्षेत्रों में दूषित पेयजल आपूर्ति हुई है। यह पानी मटमैला होने के साथ ही इसमें फंफूद भी नजर आ रही है।