>



खुलासा न्यूज़, बीकानेर। जिले के एक 11 वीं कक्षा में पढऩे वाले छात्र ने अपने गुरु के साथ मिलकर एक ऐसी खोज की है जो किसानों के वरदान साबित होगी।फि़लहाल छात्र अशोक और उनके गुरु को इंतज़ार है कि ये सिस्टम आखऱिकार आम जनता तक कैसे पहुंचे? धांधूसर गांव के क्लास 11 के अशोक गोदारा नाम के एक छात्र ने अपने गांव में पानी की कि़ल्लत और सिंचाई में पानी की कमी के चलते फ़सलें खऱाब होने को देखकर Advance Agriculture System निर्माण किया है।

जानकारी के अनुसार, ये प्रोजेक्ट Advance Agriculture System कृषि में नवीन तकनीकी के उपयोग पर केंद्रित है. प्रोजेक्ट में वर्षा के जल को विभिन्न स्थानों से वैज्ञानिक तरीके से एक ऊंचे स्थल पर एक जगह पर एकत्रित कर लिया जाता है. फिर जल को ऊंचाई से नीचे स्थित टरबाइन पर गिराकर विद्युत उत्पादन किया जाता है. इस विद्युत का उपयोग हम घरों में या कृषि कार्यों में कर सकते हैं. फिर जल को बूंद-बूंद सिंचाई के द्वारा कृषि में काम लिया जाता है. बूंद बूंद सिंचाई या ड्रिप मैथड सिंचाई खेती की आधुनिक सिंचाई तकनीक है, जिसमें पानी की खपत कम होती है.

इस प्रकार से ्रAdvance Agriculture System विज्ञान की नवीन तकनीकी के उपयोग के द्वारा कृषि कार्यों को सरल व सुगम बनाके किसानों के लिए काफी फायदेमंद है. जिसका उपयोग सामुदायिक स्तर पर किया जा सकता है.
अगर इस सिस्टम की बड़े स्तर पर तैयार कर इस्तेमाल में लिया जाए तो ये सिस्टम न केवल ग्रामीण इलाक़ों में बिजली बनाएगा बल्कि सिंचाई के लिए पानी की बूंद बूंद तकनीक भी बनेगा।