>


खुलासा न्यूज़, बीकानेर। बीकानेर जिले में ग्राम पंचायतों में सरपंच साहब की मनमानी चलती है। पंचायतों में सोलर लाइट लगाने के नाम पर सरपंच व ग्रामसेवक करोड़ों का घोटाले कर रहे है, लेकिन पंचायतीराज विभाग घोटाले रोकने में नाकाम साबित हो रहे है। पिछली सरकार में सरपंच व ग्रामसेवक ने करोड़ों रुपए की सोलर लाइटें लगा दी, जब सरकार ने जांच करवाई तो घपले का खेल सामने आया। सरकार ने प्रदेशभर के सभी ग्राम पंचायतों में 43 करोड़ की वसूली निकाली गई।3 करोड़ की वसूली होने के बाद सरपंचों ने आंदोलन छेड़ दिया। इसके बाद कार्यवाही कागजों में ही दफन गई। सरकारी मेहरबानी के चलते 43 करोड़ की वसूली आज तक नहीं हो पाई है।  सत्ता बदलने के बाद भी सरपंचों का राज नहीं बदला। बीकानेर जिले में ना तो कोई विकास कार्य हो रहा है और ना ही जन के हितों में काम हो रहा है। अब सवाल उठना लाजमी है कि आखिरकार कब तक सरपंच साहब व ग्राम सेवक गांवों को लूटते रहेंगे ?

जिले में सरपंचों और ग्राम प्रधानों ने लूट का खुला खेल
बीकानेर जिले में सोलर कांड का खेल भी उजागर हुआ है। जिले की सभी ग्राम पंचायतों में सरपंचों और ग्राम प्रधानों ने लूट का खुला खेल खेला। कई जगहों पर सोलर लाइटें लगाई ही नहीं और कहीं जगह लगाई तो वो खराब हो गई। वहीं आज की स्थिति यह बनी हुई है कि सोलर लाइटें भी चोरी हो गई है।

लूट का खुला खेल खेला…
सोलर लाइट लगाने के नाम पर गांवों के सरपंचों और ग्राम प्रधानों ने लूट का खुला खेल खेला। सरकार ने जब जांच कराई तो करोड़ों का घपला उजागर हुआ….। आखिर पंचायतों में कैसे विकास के नाम खुली लूट चल रही थी।