बीकानेर। ग्रामीण क्षेत्र में प्रतिभाओं को पर्याप्त मंच नहीं मिलने के कारण पिछडऩा पड़ता है। भामाशाह को आगे बढ़कर प्रतिभाओं को सहयोग देना चाहिए। ये विचार समीपवर्ती सिंगरासर के उच्च माध्यमिक विद्यालय में वार्षिकोत्सव एवं पुरस्कार वितरण समारोह में अतिथियों ने व्यक्त किये। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए सूरतगढ़ ब्लॉक शिक्षा अधिकारी नरेश रिणवां ने कहा कि इस ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा का प्रचार-प्रसार होने से तस्वीर बदली है। उन्होंने पूर्व विद्यार्थियों व भामाशाहों से विघालय विकास के लिए सहयोग करने की अपील की। कार्यक्रम में अध्यक्ष डीडवाना के प्रधानाध्यापक भरत मीणा ने सरकारी स्कूलों में ऐसे आयोजन की महत्ती आवश्यकता बताई। सरपंच हीरालाल स्वामी ने विद्यालय में करवाये गए कार्यों पर प्रकाश डाला। विद्यालय के प्रधानाचार्य बलवीर सिंह यादव ने मेहमानों का आभार प्रकट करते हुए विद्यालय में संचालित शिक्षण व अन्य गतिविधियों की जानकारी दी। इस दौरान भामाशाह, पूर्व विधार्थियों, सरकारी सेवा में चयन हुए विद्यार्थियों, शाला स्टाफ व उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम देने वाले विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर विद्यार्थियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। मंच संचालन व्याख्याता नीतू अग्रवाल ने किया।