>



सूरतगढ। बीमार आदमी को तो चलना ही नहीं चाहिए काहे को ट्रेन में सफर करते हैं। यह बात किसी आम आदमी ने नहीं कही बल्कि रेलवे में जीएम जैसे महत्वपूर्ण ओहदे पर बैठे अधिकारी आनंदप्रकाश ने सूरतगढ़ में स्टेशन के निरीक्षण के दौरान कही। रेल महाप्रबंधक की यह बातें सुनकर उन्हें ज्ञापन सौंपने गए नागरिकों ने भी उन्हें एकबारगी खरी-खरी सुनाई। स्टेशन के निरीक्षण के आधा घंटा के बाद जीएम सडक़ मार्ग से श्रीगंगानगर के लिए रवाना हो गए।
नागरिकों का आग्रह, मिले कड़वे वचन स्टेशन के निरीक्षण के बाद रेल महाप्रबंधक ने वीवीआइपी रूम में शहर के गणमान्य लोगों से वार्ता की। जहां नागरिकों ने जीएम को बताया कि रेलवे स्टेशन पर सबसे बड़ी समस्या आवागमन की है। पुराने रैम्पनुमा फुट ओवरब्रिज को तोडऩे के बाद समस्या और बढ़ गई। यार्ड में ट्रेनें खड़ी रहने के कारण दिव्यांग, बुजुर्ग व बीमार लोगों को एक से दूसरे प्लेटफार्म तक जाने में दिक्कत होती है। इसे देखते हुए प्लेटफार्मों पर लिफ्ट लगाने तथा पुराना फुट ओवरब्रिज दुबारा बनाने की मांग की।
नागरिकों ने जब जीएम को नए फुट ओवरब्रिज पर चढऩे के दौरान होने वाली दिक्कतों तथा पिछले महीनों में हुई मौतों के बारे में बताया तो, जीएम ने कड़वी बातें कह डाली। जीएम ने रेलवे फुट ओवरब्रिज पर दम फूलने के कारण हुई मौतों को लेकर कहा कि ये मौतें तो ट्रेन में बैठने के बाद भी हो सकती थी।