बीकानेर। SBI CARDS IPO को  लेकर निवेशको में भरी उत्साह देखने को मिल रहा है, विशेषज्ञों का मानना है की कही वजहों से निवेशक इस आईपीओ को  बेसब्री से इंतज़ार कर रहे है। देश के सबसे बड़े बैंक SBI की अनुषंगी SBI CARDS & PAYMENT SERVICES  का आईपीओ 2 मार्च को सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगा और इसके लिए 5 मार्च तक बोली लगायी जा सकती है कंपनी इस आरंभिक आईपीओ के जरिये 9000 करोड़ रूपए से अधिक की राशि जुटाना चाहती है। इसके लिए कंपनी ने 750-755 रूपए प्रति शेयर का प्राइस बंद तय किया है।
PS INVESTMENTS के फाउंडर & बिज़नेस हेड पीयूष शंगारी ने इस आईपीओ के बारे में कहा की इसका आकार बहोत बड़ा है और रिटेल कैटगरी में इसे 2-3 गुना अधिक सब्सक्रिप्शन मिलने की उम्मीद है। उन्होंने कहा की आने वाले समय में डिजिटल ट्रांसेक्शन में और बढ़ोतरी की उम्मीद है और इस पूरे सेक्टर का आउटलुक बहोत पॉजिटिव है साथ ही ग्रोथ रेट अच्छा है इसलिए निवेशक इस ऑफर को लेकर उत्साहित है उन्होंने बताया की एजेंसी क्रिसिल की एक रिपोर्ट के अनुसार इस सेक्टर में अगले 5 साल में ढाई गुना तक की ग्रोथ देखने को मिल सकती है।
उन्होंने कहा की SBI कार्ड्स आईपीओ आवंटन मिलने पर लिस्टिंग के समय ही 40-50% का फायदा होने की उम्मीद है। शंगारी ने बताया की IRCTC आईपीओ के बेहतरीन प्रदर्शन से बी निवेशक काफी उत्साहित है क्योंकि SBI कार्ड्स की पैरेंट कंपनी SBI बैंक है साथ ही कंपनी का दो साल का CAGR ग्रोथ भी शानदार रहा है।
कैसे लगा सकते है यह आईपीओ –
इसके लिए निवेशक के पास एक DEMAT अकाउंट होना ज़रूरी है, अगर किसी व्यक्ति के पास DEMAT अकाउंट नहीं है। तो सबसे पहले उसे एक DEMAT अकाउंट ओपन करना होगा फिर वो निवेशक आईपीओ के लिए अप्लाई कर सकता है, इस आईपीओ का मिनिमम इन्वेस्टमेंट 14345 है।