जोधपुर: रीट भर्ती परीक्षा मामले में जोधपुर कमिश्नरेट पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए फर्जी परीक्षा देने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है और 2 सरकारी अध्यापकों सहित चार जनों को गिरफ्तार किया है. एडीसीपी भागचंद मीणा ने बताया कि विशेष सूत्रों से मिली जानकारी और साइबर सेल से मिले इनपुट के आधार पर पुलिस ने रीट परीक्षा में फर्जी परीक्षार्थी बिठाने के मामले की जांच शुरू की, जिसमें पावटा स्थित मीरा गुरुकुल नामक कोचिंग संस्थान चलाने वाले संचालक भंवरलाल विश्नोई द्वारा फर्जी परीक्षार्थियों को परीक्षा में बैठाने की बात सामने आई.

पुलिस ने भंवरलाल विश्नोई को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो सारा मामला सामने आया. एडीसीपी भागचंद मीणा ने बताया कि भंवरलाल विश्नोई ने रमेश कुमार के स्थान पर फर्जी परीक्षार्थी बिठाने की एवज में ₹9 लाख में सौदा तय किया और ₹4 लाख 50 हजार 25 सितंबर को देना तय किया. एसीपी दरजाराम, महामंदिर थानाधिकारी लेखराज, सीआई सत्य प्रकाश विश्नोई और दिनेश की टीम ने मामले में भंवरलाल विश्नोई, रमेश कुमार विश्नोई, रावता राम जाट और मोहनलाल विश्नोई को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने आरोपियों के पास से फर्जी आधार कार्ड, ब्लैक चेक, 4 लाख नकद व अन्य कई महत्वपूर्ण दस्तावेज भी बरामद किए हैं.