रायसिंह राव लूनकरनसर।

राजस्थान सरकार के मुखिया, उप मुखिया और चिकित्सा जैसा महकमा संभाल रहे, मंत्री दो दिन से गैर जिम्मेदाराना बयान दे रहे हैं। मैं सचिन पायलट की बात से सहमत हूँ कि जब जनता द्वारा सरकार चुनी जा चुकी है, तब पूरे राजस्थान की जनता के प्रति जवाबदेही सरकार की है। कोटा, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर अन्य जिलों में आये दिन बच्चों की असमय मृत्यु होना सरकार की नैतिक जिम्मेदारी है। सरकार का दायित्व चाहे पीडब्ल्यूडी काम हो, विद्युत विभाग का काम, पीएचईडी या अन्य किसी भी काम भी प्रकार का काम हो, आपस में समन्वय करने का दायित्व माननीय मुख्यमंत्री का है। मुख्यमंत्री जी का बयान गलत है। वो ये सब नजारा धतृराष्ट्र की तरह बंद आंखों से देख रहे हैं।
आज भाजपा नेता रविशेखर मेघवाल ने गांव कालू व लूनकरणसर क्षेत्र का दौरा सी.ए.ए. व एन.आर.सी. कानून के बारे में लोगों को विस्तृत जानकारी दी। नागरिकता संशोधन अधिनियम बिल पहले भी कई बार आया है। पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी के समय श्रीलंका से शरणार्थियों को नागरिकता दी थी तथा तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी ने राज्यसभा में मांग रखी थी कि बांग्लोदेश से आये हिन्दुओं को नागरिकता भी देवें। अब कांग्रेस सरकार हल्ला मच्चा रही है, झूठ बोल रही है। नागरिकता के सम्बन्ध कांग्रेसियों व हमारे राजस्थान के नेताओं को अधूरा ज्ञान होने के कारण झूठ/भ्रम फेला रहे हैं, जबकि है इसका उल्टा।
इसमें राजपाल सिंह शेखावत,चंद्र प्रकाश मेघवाल,फकीरचंद सोखल,राजाराम धतरवाल, सुरेन्द्र नाथ,गणेश नाथ,लालनाथ,शंकर लाल गोदारा,ईश्वर भादू,जगदीशनाथ,श्रवणनाथ, महावीर भाट आदि मौजूद रहे।