>



 श्रेष्ठ कार्य का मुहूर्त न तलाशें,जमे रहें

बीकानेर। एनएनआरएसवी में ब्रेकथ्रू टू सक्सेस कार्यशाला का प्रारंभ उप प्राचार्य ज्योति खत्री स्वागत उदबोधन के साथ किया। उप प्राचार्य ने स्कूल में हुए नवाचारों,पर्यावरण संरक्षण मुहिम,यज्ञ के वैज्ञानिक प्रभाव,क्रिएटिव एक्टिविटीज आदि पर प्रस्तुतीकरण दिया। प्राचार्य पूनम चौधरी ने विद्यालय की रिपोर्ट प्रस्तुत की तथा मेरिट में आये छात्रों का अभिनन्दन किया। मुख्य अतिथि डॉ गौरव बिस्सा ने कहा कि यदि जीवन में यदि आप नित्य प्रति अपनी ऊर्जा का पचास फीसदी अपने लक्ष्य के लिये खर्च नहीं करते हैं तो यकीन मानियें कि आप अपने लक्ष्य प्राप्त करने का दिखावा कर रहे हैं। ये विचार मैनेजमेंट ट्रेनर डॉ गोरव बिस्सा ने पवननुरी स्थित एनएन आरएसवी स्कूल में आयोजित बी द चेंज विषय की कार्यशाला में व्यक्त किए। डॉ बिस्सा ने दूसरे सत्र में विद्यार्थियों में परीक्षा से सम्बंधित तनाव को दूर करने के टिप्स देते हुए कहा कि परीक्षा सिर्फ 3 घंटे का क्रिज गेम है अत: ज्यादा तनावग्रस्त न हों। पॉवर रीडिंग करके,उतमता से विषयें का रिविजन करके,कॉपी पर अच्छे तरीकेे से उतर लिखकर विद्यार्थी उच्च अंक प्राप्त कर सकते है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए आरएसवी समूह के सीईओ आदित्य स्वामी ने कहा कि कार्य के प्रारम्भ से लेकर उसकी पूर्ण क्रियान्विति तक अपने उत्साह को बनाये रखना आवश्यक है। उन्होने कहा कि विद्यार्थी कई बार निराश हो जाते है और किसी एक कार्य पर कंसंट्रेट नहीं करते। कार्यक्रम का संचालन ज्योति खत्री ने किया।

विद्यार्थियों को बताये सफलता के ये सूत्र
परीक्षा एक खेल है,उत्सव है,स्मृति की परीक्षा है अत: बिल्कुल न घबरांए
इम्प्लेमेंटेशन कीजिये,वह प्लानिग जितनी ही जरूरी,
परिस्पर्धा नही,अनुस्पर्धा यानि खुद से स्पर्धा करें,
रिसेप्शन,रिटेंशन और रिकॉल का ध्यान रखे,
कोई कार्य छोटा नही अत: प्रत्येक कार्य लगन से करे