>


बीकानेर । सरकारी स्कूलों में अक्षय पात्र योजना के तहत भेजे जा रहे पोषाहार में भ्रष्टाचार की बू खत्म होने का नाम नहीं ले रही। पोषाहार के नाम पर घटिया खाना भेजने की शिकायतों के बीच शुक्रवार को एक और गंभीर मामला सामने आया है। यहां गंगाशहर स्थित राजकीय माध्यमिक भट्टड स्कूल में पोषाहार के निर्धारित मैन्यू के अनुसार खीर भेजी जानी थी, हालांकि खीर पहुंची भी, लेकिन उसका रंग-ढंग देखकर बच्चे ही नहीं, बल्कि स्कूल स्टाफ भी अचंभित रह गया। खीर में दूध तो नाम मात्र का था। खीर का स्तर घटिया होने पर प्रधानाध्यापक चंद्रप्रकाश शर्मा ने अक्षय पात्र योजना से जुडे लोगों से इसकी शिकायत की, तो वे मौके पर पहुंच गए। इस दरम्यान प्रधानाध्यापक शर्मा ने डीईओ प्रारंभिक इस्माइल खान को भी मामले से अवगत कराया है। आपको बता दें कि इसी स्कूल में यह पहला मामला नहीं है, जब घटिया पोषाहार भेजा गया हो। प्रधानाध्यापक की मानें तो इससे पहले भी लगातार घटिया पोषाहार आ रहा है, इसकी शिकायत करने पर कहा जाता है कि आज-आज एडजस्ट कर लो।
इनका कहना है
अक्षय पात्र से आना वाला बहुत घटिया तरीका का आता है खीर के नाम पर उबले हुए कच्चे चावल भेजते है। कई बार इसकी शिकायत कर चुके है लेकिन शिकायत का कोई फर्क नहीं पड़ता है। ऐसा खाना अगर बच्चों को दिया जाता है तो उनके स्वस्थ्य खराब हो सकता है।
प्रधानाध्यापक
चन्द्र्रप्रकाश शर्मा
राजकीय माध्यमिक भट्टड स्कूल