>



बीकानेर। पंचायती राज चुनावों के लिये पहले चरण के कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही जिले के ग्रामीण अंचलों में सियासी माहौल परवान चढना शुरू हो गया है। इधर कांग्रेस व भाजपा के रणनीतिकार पंचायत चुनाव के जरिए गांवों में अपनी पकड़ बनाने के प्रयास में जुट गई हैं। फिलहाल प्रमुख पार्टियां की रणनीति बिना सिम्बल ही कार्यकर्ताओं को सरपंच व पंच के चुनाव में उतारने की है, जिससे पार्टियों को निकाय चुनाव की तरह बगावत की समस्या नहीं झेलनी पड़े। ग्रामीण जन प्रतिनिधियों के अनुसार ग्राम पंचायत के सरपंच का चुनाव कहने में भले ही छोटा लगे, लेकिन पंचायत राज संस्थाओं में ग्राम पंचायत महत्वपूर्ण क ड़ी होने से जिले की राजनीति में सरपंचों का रोल बड़ा रहा है। अभी तक की रणनीति के तहत कांग्रेस व भाजपा ने सरपंच व पंच पद के चुनाव में सिम्बल पर प्रत्याशी नहीं उतारने का निर्णय किया है, लेकिन दोनों ही पार्टियों के नेताओं की चाहत उनकी विचारधारा से जुड़े कार्यकर्ताओं को सरपंच व पंच पद का चुनाव लड़वाने की है। दोनों ही पार्टी के पंचायत चुनाव के रणनीतिकार ग्राम पंचायतों में अपनी विचारधारा से जुड़े लोगों की पहचान कर सरपंच व पंच पद के चुनाव में उतारने की तैयारी में जुटे हैं। प ंचायत चुनाव में प्रमुख राजनीतिक पार्टियां सरपंच व पंच पद के चुनाव में सिम्बल पर प्रत्याशी नहीं उतारती। राजनीतिक दलों से जुड़े लोगों का मानना है कि सरपंच का चुनाव महत्वपूर्ण होने के बाद भी प्रमुख पार्टियों की ओर से सिम्बल पर प्रत्याशी नहीं उतारने के पीेछे प्रत्याशियों की बगावत का भय है। क ारण है कि प्रमुख पार्टियां लंबे समय से निकाय चुनाव में सिम्बल पर प्रत्याशी उतारती रही हैं, पार्षद पद के चुनाव में पार्टी टिकट के कई दावेदार होने से बगावत का खतरा झेलना पड़ता है। इसी बगावत के भय से फिलहाल प्रमुख पार्टियां सरपंच पद के चुनाव में सिम्बल पर प्रत्याशी उतारने से बचती हैं। जानकारी में रहे कि पंचायत समिति व जिला परिषद सहित प्रधान, उप प्रधान, जिला प्रमुख तथा उप जिला प्रमुख के चुनावों की तारीख का ऐलान होना अभी बाकी है। यही कारण है कि सडक़ों पर प्रमुख पार्टियों की भागदौड़ कम दिखाई पड़ रही है, लेकिन ऐसा भी नहीं है कि प्रमुख पार्टियां पंचायत चुनाव को लेकर शांत बैठी हो।
कांग्रेस व भाजपा सहित अन्य प्रमुख पार्टियों की नजर फिलहाल सरपंच व पंच पद के चुनाव पर टिकी है। गांवों की सरकार का मुखिया होने के कारण सरपंच पद का ग्रामीण राजनीति में बड़ा महत्व है। यही कारण है कि प्रमुख पार्टियों के नेता ग्राम पंचायतों में ज्यादा से ज्यादा सरंपच व पंच निर्वाचित कराने की रणनीति बनाने में जुटे हैं।
तीन गांवों में निर्विरोध सरपंच की उम्मीद
जानकारी मिली है कि जिले के तीन ग्राम पंचायतों में सरपंच निर्विरोध चुना जा सकता है। इसके लिये सर्वसम्मति से नाम तय कर लिये गये है। श्रीडूंगरगढ़ की बाना,सूडसर और डेलवां गांव में भी निर्विरोध सरपंच चुने जाने की पूरी उम्मीद है। यहां गुरूवार को होने वाले नामांकन में यह बात साफ हो जाएगी। जिसकी अधिकृत घोषणा 9 जनवरी को नाम वापसी के साथ की जाएगी। लेकिन इन तीनों ही गांवों में ग्रामवासियों ने पहले ही मन बना लिया और सर्वसम्मति से तय कर सरपंच के निर्विरोध निर्वाचन की राह तय कर ली। इस मंशा के पीछे राज्य सरकार की अनेक घोषणाओं को भी प्रमुख कारण बताया जा रहा है।