>


जोधपुर। जैसलमेर के रामगढ़ क्षेत्र में पाकिस्तानी क्रिकेट टीम की जर्सी पहने हुए युवक का शव मिला है। यह शव तारबंदी से महज 150 मीटर की दूरी पर रेत में पड़ा था और बुधवार शाम गश्त के दौरान बीएसएफ को मिला। बीएसएफ ने रामगढ़ पुलिस को शव सौंप दिया। पुलिस ने गुरुवार को रामगढ़ हॉस्पिटल में मेडिकल बोर्ड से शव का पोस्टमार्टम कराया। इसमें युवक की 48 घंटे पहले मौत होना सामने आया। शव 2 दिन तक तारबंदी से कुछ ही दूर पड़ा था, लेकिन गश्त करने वाले बीएसएफ को इसका पता नहीं चला। पोस्टमार्टम की प्रारंभिक रिपोर्ट में डॉक्टर्स ने भूख-प्यास से मौत होने का संदेह जताया है। इस बारे में बीएसएफ राजस्थान फ्रंटियर आईजी अमित लोढ़ा का कहना है कि बॉर्डर पर तारबंदी से पहले अज्ञात शव मिला था, जिसे पुलिस को सौंप दिया।
शव पर चोट के निशान नहीं मिले हैं। इसकी मौत कैसे हुई, यह स्पष्ट नहीं है, लेकिन प्रारंभिक जांच में डिहाइड्रेशन से मौत होना प्रतीत हो रहा है। साथ ही मेंटली भी हो सकता है, जो भटकते हुए यहां तक पहुंच गया होगा? शिनाख्त के लिए शव सुरक्षित रखा है। इस मामले की जांच करवाई जा रही है।हर सुबह खुरा चैकिंग यानी पांवों के निशान की जांच अलग से होती है। इसके अलावा ओपी टॉवर में बैठे जवान दूरबीन से निगरानी अलग से रखते हैं। यहां सीसीटीवी कैमरों से भी नजर रखी जाती है। बावजूद इसके बॉर्डर के इतने नजदीक शव 48 घंटे रेत में पड़ा रहा। वैसे पाकिस्तानी जर्सी होने के कारण इसके घुसपैठिया होने का संदेह है, फिलहाल बीएसएफ ने इससे इनकार किया है।