>


बीकानेर। बीकानेर में कोरोना का खतरा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। जिले के शहरी और ग्रामीण इलाकों से लगातार नये संक्रमित सामने आ रहे है। इनमें गंभीर बीमारी वाले मरीज भी शामिल है। लेकिन चिंता का विषय यह है कि कोविड अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट स्वयं वेनटीलेटर पर है। जिसको लेकर मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ शैतानसिंह राठौड ने पीबीएम अधीक्षक डॉ सलीम को एक पत्र लिखकर कोविड अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट को दुरूरत करवाने व प्लांट में कर्मचारी की कमी दूर करने की बात कही है। साथ ही सिलेण्डर प्लांट तक रखवाने की व्यवस्था करने को भी कहा गया है।
पत्राचार पर मचा घमासान,कोविड अस्पताल आपके अधीन नहीं
जानकारी मिली है कि इस समय अस्पताल प्रशासन व मेडिकल कॉलेज कोरोना को लेकर गंभीरता नहीं दिखा रहा है। जिसका प्रत्यक्ष प्रमाण मेडिकल कॉलेज प्राचार्य की ओर से अधीक्षक को लिखा गया पत्र है। मेडिकल कॉलेज प्राचार्य के पत्र क्रमांक (साशा)/सपआम/2020/787 की ओर गौर करते तो बड़े चिंताजनक हालात है। इस पत्र में कॉलेज प्रशासन ने पत्रांक 14431 का हवाला देते हुए स्पष्ट किया है कि ईएमडी इंचार्ज सुरेश कांत आचार्य की ओर से एक अधीक्षक डॉ सलीम को एक पत्र सं (734 दिनांक 25 जून 20 )केे मुताबिक कोविड-19 सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक भवन को हैड ओवर करने के आग्रह किया गया। लेकिन अधीक्षक की ओर इंजार्च द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना पर टिप्पणी की गई है कि उक्त भवन आपके कार्यालय के अधीन नहीं है। डॉ राठौड़ ने अधीक्षक को निर्देशित किया है कि प्रकरण की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए वांछित कार्यवाही कर कॉलेज प्राचार्य को सूचित किया जाएं।

जिला कलक्टर की सीख पर भी नहीं हो रहा अमल
गौर करने वाली बात तो यह है कि एक ओर जिला कलक्टर नमित मेहता कोविड को लेकर गंभीर है और आपसी समन्वय से काम करने की हिदायतें दे रहे है। वहीं दूसरी ओर पीबीएम अधीक्षक डॉ सलीम व प्राचार्य डॉ शैतान सिंह के बीच समन्वय दिखाई नहीं दे रहा है। हालात यह है कि चिकित्सा विभाग के अधिकारियों के साथ भी अस्पताल व मेडिकल कॉलेज के बीच तालमेल दिखाई नहीं दे रहा है।