>


जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस की जांच कराने के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया गया है। अब प्रदेश में जो भी कोविड -19 परीक्षण करवाना चाहेगा, उसे जांच के लिए नमूना देने से पहले अपना आधार कार्ड नंबर देना होगा। अगर किसी व्यक्ति के पास आधार नहीं है तो वह परिवार के मुखिया या परिवार के किसी अन्य सदस्य का आधार कार्ड दिखा सकता है। स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मरीजों पर नजर रखने के लिए यह निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि जांच कराने वाले कुछ लोग गलत जानकारियां दे रहे थे, जिससे मरीजों को ट्रेस करने में परेशानी आ रही थी। इसी के चलते आधार कार्ड को अनिवार्य किया गया है,जिससे कि रोगी को समय पर ट्रेस किया जा सके और किसी तरह की कठिनाई का सामना न करना पड़े।
स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना जांच के लिए नई गाइडलाइन जारी की है। गाइडलाइन में कहा गया है कि जांच के लिए नमूना लेने वाले लैब टेक्नीशियन को संदिग्ध मरीज से जुड़ी सभी जानकारी आरटी-पीसीआर ऐप पर देनी होगी। इसके साथ ही सभी लैब टेक्निशियन को आरटी-पीसीआर ऐप पर अनिवार्य रूप से संदिग्ध मरीजों का आधार नंबर देने को भी कहा गया है।
अगर किसी के पास आधार कार्ड नहीं है तो उसकी जगह परिवार के किसी सदस्य का आधार कार्ड नंबर दिया जा सकता है। राजस्थान सरकार ने निर्देश जारी करते हुए कहा है कि कोरोना के वैसे मरीज जो होम आइसोलेशन में हैं। उन्हें घर पर ही हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन और प्रोफाइलेक्सिस दवाई दी जाए। साथ ही कोरोना संक्रमित के संपर्क में आए लोगों को भी ये दवाईयां दी जाएं