>



नई दिल्ली। निर्भया के दरिंदों को एक फरवरी को फांसी दी जाएगी. इससे पहले तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने मौत की सजा पाए दोषियों के वकील द्वारा मांगे सभी संबंधित दस्तावेज मुहैया करा दिए हैं। अभियोजन ने दिल्ली की अदालत को बताया कि दोषी विलंब की तरकीब अपना रहे हैं।

वकील ने दावा किया कि उनके मुवक्किल को धीमा जहर दिया गया:
वहीं इसी दौरान चार में से एक दोषी विनय शर्मा के वकील ने अदालत में दावा किया कि उनके मुवक्किल को धीमा जहर दिया गया और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन कोई चिकित्सा रिपोर्ट नहीं दी जा रही. दोषियों के वकील एपी सिंह ने शुक्रवार को फिर पटियाला हाउस कोर्ट में याचिका दायर कर तिहाड़ जेल प्रशासन पर आरोप लगाया है कि दोषियों के लिए सुधारात्मक और दया याचिका दायर करने के लिए जरूरी दस्तावेज देने में देरी की जा रही है।

नया डेथ वारंट हुआ है जारी
बता दें कि निर्भया के चारों दोषियों के लिए नया डेथ वॉरंट जारी हुआ है. इसके तहत पवन, अक्षय, विनय और मुकेश को 1 फरवरी सुबह 6 बजे फांसी दी जानी है. इनमें से दोषी मुकेश की क्यूरेटिव पिटीशन और राष्ट्रपति को भेजी गई दया याचिका पहले ही खारिज हो चुकी है. अब बाकी चार दोषियों के पास क्यूरेटिव पिटीशन और दया याचिका भेजने का विकल्प बचा है।