>

खुलासा न्यूज़, बीकानेर। जिले में दहेज के लिए मारपीट के मामलों का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। होली के दिन श्रीडूंगरगढ़ थाना क्षेत्र के मोमासर बास की एक और बेटी पुलिस थाने पहुंची और थानाधिकारी से न्याय की गुहार लगाई। मोमासर बास की मुस्कान का विवाह 28 नवम्बर 2017 को पिता गौरीशंकर मोदी ने बड़े अरमानों के साथ दीपेश उर्फ मोनु मोदी पुत्र छगनलाल मोदी निवासी राजगढ़ चूरू के साथ धूमधाम से किया था। परंतु विवाह के दूसरे दिन से पति दीपेश, ससुर छगनलाल, सास मनोहरीदेवी, नंनद नीतू ने दहेज कम लाकर बिरादरी में नाक कटवा देने के तानों के साथ गाड़ी व तीन लाख रुपए और पीहर से लाने की मांग की।
आखिर करीब दस माह पूर्व तीन माह की गर्भवती मुस्कान को ससुराल वालों ने घर से निकाल दिया। केस नहीं करने की बात पर मुस्कान के ससुर ने कहा कि डिलेवरी के बाद उसे ले जाएंगे। 15 अक्टूबर को मुस्कान की डिलेवरी हुई और मुस्कान की गोद में अनुराधा आ गई। मुस्कान के ने कई बार पति को फोन किया पर वो पिता अपनी नवजात पुत्री को देखने तक नहीं आया। इस मामले को लेकर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की।