खुलासा न्यूज़, जयपुर। यातायात नियमों की पालना डंडे के जोर से नहीं की जा सकती है। इसी के चलते राजस्थान में केन्द्र के नए मोटर वीकल एक्ट को हमने रोका था। केन्द्र सरकार डंडे के जोर से एक्ट को मनवाना चाहता था। परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने मंगलवार को 31वें सड़क सुरक्षा सप्ताह के शुभारंभ कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एक्ट को लेकर इस संबंध में जल्द ही बैठक लेने वाले हैं। इसके बाद इसे लागू किया जाएगा। परिवहन मंत्री ने कहा कि केन्द्र की सरकार ने मोटर वीकल एक्ट में एक भी चालान 100 रुपए का नहीं रखा। एक्ट में भारी भरकम जुर्माने लगा रखे हैं। प्रदेश में केन्द्र के जुर्माने लागू नहीं होंगे। हमने जुर्मानों में कटौती कर राहत दी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एक्ट को लेकर इस संबंध में जल्द ही बैठक लेने वाले हैं। इसके बाद इसे लागू किया जाएगा।

ट्रैफिक पुलिस जनता को परेशान नहीं करे
परिवहन मंत्री ने कहा कि यातायात नियमों की पालना कराने के लिए पुलिस और परिवहन अधिकारी नरम रुख अपनाएं। डंडे के जोर पर नियमों की पालना नहीं कराएं। खासतौर पर स्कूल, कॉलेज और परीक्षाओं के समय पर यातायात पुलिस छात्रों के प्रति सकारात्मक रुख रखे। लोगों में ऐसा विश्वास बनाएं कि वे पुलिस को देखकर नहीं भागे। ट्रैफिक पुलिस का काम सिर्फ लाइसेंस देखने का है। वह अपने अधिकारों के अनुरूप ही काम करें।