>

खुलासा न्यूज़, बीकानेर। नोखा में होली से एक दिन पहले 8 मार्च को बोलेरा कैम्पर गाड़ी में सवार युवकों पर पेट्रोल छिड़ककर जलाने के मामले में घायल दूसरे व्यक्ति ने भी जयपुर अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इस पूरे प्रकरण में हर किसी को चौंकाने वाली बात सामने आई कि थाने का स्टाफ ही आरोपियों के सम्पर्क था। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एक कांस्टेबल तो घटना वाले दिन आरोपियों सम्पर्क में था। घटना के दि चार बार फोन पर बात करने की खबर भी सामने आई है। इस पूरे मामले में एसपी प्रदीप मोहन शर्मा का कहना है कि मामले में लिप्त कोई पुलिसकर्मी है तो आवश्यक रूप से जांच करवाई जाएगी। लेकिन अब जरूरत हार्ड मैसेज देने की भी है। अगर पुलिसकर्मी ही लिप्त तो फिर कैसे जनता भरोसा कर पाएगी। आईजी जोस मोहन तक भी शिकायत पहुंची है। वहीं एक दूसरे हैड कांस्टेबल पर भी आरोप है कि बदमाशों की गाड़ी का उपयोग करता है। ऐसे में खाकी छवित को पलीता लग रहा है।