>


बीकानेर। फर्जी मेडिकल सर्टिफिकेट बना आपात पैरोल हासिल कर फरार होने वाला राजस्थान का सबसे बड़ा हथियार तस्कर अमीन वापस जेल पहुंच गया है। बीकानेर पुलिस ने छह माह बाद रामपुरा बस्ती में उसे और उसके साथी को पिस्टल-कारतूस के साथ गिरफ्तार किया था। अब श्रीगंगानगर पुलिस उसे प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार कर ले जाएगी। रामकिशन सियाग हत्यकांड में सजायाफ्ता हथियार तस्कर अमीन अपने बेटे के नाम फर्जी मेडिकल सर्टिफिकेट सर्टिफिकेट बना आपात पैरोल हासिल कर 20 फरवरी को श्रीगंगानगर जेल से छूटा था। उसे 26 फरवरी को शाम पांच बजे तक वापस जेल पहुंचना था, लेकिन वह फरार हो गया। बीकानेर पुलिस ने छह माह बाद राजस्थान के टॉप-10 अपराधियों में शामिल अमीन को रामपुरा बस्ती की गली संख्या सात में गोपाल धोबी के घर से पकड़ा था। दोनों अभियुक्तों से पिस्टल और 20 जिंदा कारतूस बरामद होने पर नयाशहर थाने में मुकदमा दर्ज कर रिमांड पर लिया। रिमांड अवधि खत्म होने पर शनिवार को कोर्ट में पेश किया जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया है। अमीन के खिलाफ श्रीगंगानगर के कोतवाली पुलिस थाने में पैरोल से फरार होने का मुकदमा दर्ज है। वहां की पुलिस अमीन को बीकानेर जेल से प्रॉडक्शन वारंट पर गिरफ्तार कर ले जाएगी और तस्दीक करेगी कि फर्जी मेडिकल सर्टिफिकेट पर पैरोल कैसे हासिल कर ली।
एसपी ने की अमीन से पूछताछ
एसपी प्रदीपमोहन शर्मा ने भी शनिवार को कोटगेट पुलिस थाने में अमीन से पूछताछ की थी। अमीन राजस्थान के टॉप-10 अपराधियों में शामिल है। प्रदेश के आला अधिकारियों की उस पर नजर रहती है। इसे देखते हुए एसपी शर्मा कोटगेट थाने पहुंचे और उससे पूछताछ की। इससे पहले जयपुर से आए एसओजी और एटीएस के अधिकारियों ने भी अमीन से पूछताछ की। पुलिस अधिकारियों को अमीन से उसके साथियों, अवैध हथियार और फरारी में सहयोग करने वालों की जानकारी मिली है।