बीकानेर। नोखा पुलिस थाने में दर्ज दहेज हत्या के मामले में नामजद मुलजिमों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचाने की मांग को लेकर शनिवार को पीडि़त पक्ष के लोगों ने रैंज पुलिस महानिरीक्षक जोश मोहन को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन देने आये प्रतिनिधि मंडल में पवनपुरी निवासी हड़मानाराम पुत्र बीरबलराम बिश्नोई का आरोप है कि नोखा पुलिस थाने में दर्ज देहज हत्या के मामले में अनुसंधान अधिकारी अभियुक्त पक्ष में अनुचित दबाव में है और इसी दबाव के चलते अनुसंधान अधिकारी द्वारा एफआईआर में नामजद आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है। विश्रोई ने बताया कि वर्तमान अनुसंधान अधिकारी से न्याय मिलने की कोई उम्मीद नहीं है। वहीं आईजी को दिये ज्ञापन में बताया कि उसकी पुत्री सोनू की शादी 02 जुलाई 2014 में रासीसर तालरिया बास निवासी सुभाष पुत्र ओमप्रकाश बिश्नोई के साथ हुई थी। जिसका मुकलावा 15 जनवरी 2017 को किया था। मुकलावे के थोड़े दिन बाद पुत्री सोनू को उसका पति सुभाष, सास पप्पु व ननद रेणु दहेज के लिए तंग-परेशान करना शुरू कर दिया और कभी-कभी उसके साथ मारपीट भी करते थे। 05 जनवरी 2020 को उसकी पुत्री सोनू ने घर के ऊपर वाले कमरे में फांसी के फंदे से लटकाई हुई थी व उसके पैर जमीन के ऊपर टिके हुए थे। लेकिन इस जांच अधिकारी ने मृतका के पति सुभाष की गिरफ्तारी कर मामले की इतिश्ररी करने का प्रयास किया। परिवादी ने ज्ञापन में बताया कि इस पूरे षड्यंत्र में मृतका की सास व ननद भी शामिल थी, लेकिन पुलिस ने इनको गिरफ्तार नहीं किया। ऐसे में जांच अधिकारी से इस मामले में न्याय मिलने की कोई उम्मीद नहीं है। ज्ञापन में अनुसंधान अधिकारी बदलकर इस प्रकरण की तफ्तीश किसी अन्य निष्पक्ष उच्च पुलिस अधिकारी से करवाकर दोषी अभियुक्तगण को गिरफ्तार करवाने की मांग की गई।