>


बीकानेर। नोखा कस्बे में एक ज्वेलर्स की दुकान पर सोने के आभूषण बनाने नौकरी पर रखा एक बंगाली कारीगर 37 ग्राम सोना लेकर फरार हो गया। पीडि़त रमेश कुमार सोनी ने बताया कि उसकी दुकान पर 2 महीने पहले गिरिश अरि पुत्र गुनघर अरि निवासी हाल बीकानेर सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के दुकानदार के कहने पर बंगाली कारीगर गोविंदा अरि पुत्र श्यामल अरि निवासी कुमार चक पोस्ट रानी चक थाना दासपुर निवासी पश्चिमी बंगाल को दो माह पहले आभूषण बनाने के लिए को नौकरी पर रखा था। गुरुवार को बंगाली कारीगर 37 ग्राम सोना जिसकी कीमत एक लाख रु से ज्यादा है चोरी करके फरार हो गया। पीडि़त ने दिल्ली में रहने वाले भाई गोपाल अरि को भी घटना के बारे में अवगत करवाया लेकिन उसने भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया। पीडि़त ने नोखा थाने में इस मामले में रिपोर्ट दी है। नोखा क्षेत्र में दर्जनों बंगाली कारीगर लाखों रु का सोना लेकर पूर्व में फरार हो चुके है जिनका आज तक कोई पता नहीं चला है। पीडि़त स्वर्णकार का पास आपसी लेनदेन के लिखित सबूत नहीं होने के कारण वे मन मसोस कर रह जाते है। नोखा कस्बे में ज्वेलरी की दुकानों और घरों में काम करने वाले बंगाली कारीगरों का कोई भी सुनार पुलिस वेरिफिकेशन नहीं करवाता है जिसके कारण उनके आपराधिक मामलों में लिप्त होने का पता नहीं चलता ओर वे कुछ दिन विश्वास हासिल करने के बाद स्वर्णकार को लाखों रु का चूना लगाकर आराम से फरार हो जाते है।