>


रविवार को चला सघन सफाई अभियान
अतिक्रमण हटाने के लिए भी की गई कार्यवाही
बीकानेर। पब्लिक पार्क सहित सूरसागर और आसपास के इलाकों की साफ-सफाई और अतिक्रमण हटाने  के सम्बंध में  जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम के शनिवार को दिए गए निर्देशों के परिणाम रविवार सुबह से ही दिखने शुरू हो गए। रविवार को नगर निगम और यूआईटी की संयुक्त टीम द्वारा राव बीका जी की प्रतिमा स्थल के बाहर साफ सफाई के साथ-साथ अतिक्रमण भी हटाए गए। वहीं सूरसागर की टूटी दीवार की मरम्मत का कार्य भी रविवार सुबह ही प्रारंभ हो गया।
जिला कलक्टर ने शनिवार को इस पूरे क्षेत्र का निरीक्षण कर न्यास अधिकारिरयों को निर्देश दिए थे। निर्देशों का साफ असर दिखा और छुट्टी का दिन होने के बावजूद लिली पोंड में सफाई कार्य शुरू हुआ ।
तुलसी सर्किल के आस-पास भी हुई सफाई 
तुलसी सर्किल और आस-पास के क्षेत्र में सफाई कार्य होने से पूरे इलाके को दृश्य बदला-बदला नजर आया। जिला कलेक्टर व न्यास अध्यक्ष ने निर्देश दिए थे कि तुलसी सर्किल से शहीद स्मारक की तरफ पब्लिक पार्क में जो सड़क चल रही है उसके किनारे जो सड़क किनारे जो फुटपाथ और उसके अंदर जो झाड़ झंकार उगे हैं उन सब को साफ किया जाए। रविवार सुबह से ही जेसीबी मशीन लगाकर इन सब को साफ किया गया । गौतम ने व्यास अभियंता को निर्देश दिए हैं कि तुलसी सर्किल के अंदर से शहीद स्मारक तक एक छोटा पथ भी विकसित करने की संभावनाएं तलाशें । उन्होंने अभियंता को यह भी निर्देश दिए कि तुलसी सर्किल और पब्लिक पार्क के बीच में जो अवैध रूप से गौशाला चल रही है इसे भी यहां से हटाई जाए।  गौशाला के संचालकों से बातचीत कर उन्हें सोमवार तक समझाइश की जावे कि वे अपने पशु यहां से स्थानांतरित कर ले और जमीन मुक्त कर दे अन्यथा उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई करते हुए जमीन अतिक्रमण से मुक्त करवाई जाएगी और इस कार्रवाई पर होने वाला खर्च गौशाला संचालकों से वसूल किया जाएगा।
राव बीकाजी प्रतिमा स्थल से हटाया गया अतिक्रमण
राव बीकाजी प्रतिमा स्थल पर हुए अतिक्रमण को भी रविवार सुबह हटवाया गया। गौतम ने शनिवार रात जब विभिन्न स्थानों का दौरा किया था इस दौरान उन्होंने न्यास के अधिकारियों को निर्देश दिए थे कि पुलिस तथा होमगार्ड की मदद से राव बीका जी की प्रतिमा के आगे जो अतिक्रमण हैं इन्हें हटाया जाए, साथ ही जूनागढ़ के सामने जो अवैध रूप से लगे गाडे  और फूड जोन को भी प्रथम चरण में यहां से हटाने के लिए समझाइश कर। समझाइश के बाद भी अगर यह क्षेत्र अतिक्रमण मुक्त नहीं हुआ तो प्रशासन अपने स्तर पर सारे अतिक्रमण हटाकर पूरे क्षेत्र को नॉन वेंडिंग जोन घाषित करेगा।