>


खुलासा न्यूज़, बीकानेर। जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम ने शुक्रवार देर शाम सरकारी कार्यलयों का निरीक्षण किया। यहां के अस्पातल पहुंचे तो दो चिकित्सक नदारद मिले। जानकारी ली तो पता चला सर्जन देवीसिंह कच्छावा दिनभर से अस्पताल ही नहीं पहुंचे तो वहीं वे शाम की ओपीडी में भी नहीं पहुंचे। बहाना मिला कोर्ट के काम का। डॉ कोमल शर्मा भी नदारद मिली। ये दिन में नहीं आई थी। कलक्टर ने दोनों के खिलाफ एक्शन लेते हुए तुरंत अनुशासनात्मक कार्रवाई के आदेश दे डाले।
इसके बाद जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम ने उपखंड अधिकारी कार्यालय में अधिकारियों की बैठक लेते हुए भारत माला परियोजना के तहत शिविर लगाकर मुआवजा देने, संपर्क पोर्टल पर दर्ज शिकायतों का वास्तविक रूप से समाधान करने, लंबित कार्यो को पूरा करने के निर्देश दिए। इसके बाद अस्पताल में उन्होंने लेबर कक्ष, वार्ड देखते हुए आवश्यक निर्देश दिए। साथ ही अस्पताल में कार्यरत चिकित्सको की जानकारी ली। जिला कलेक्टर ने पंचायत समिति, राजस्व तहसील के निरीक्षण कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। इस अवसर पर उपखंड अधिकारी राजेश कुमार नायक, वृत्ताधिकारी ओमप्रकाश चौहान, राजस्व तहसीलदार हरिसिंह शेखावत, विकास अधिकारी दिनेश सिंह भाटी, डिस्कॉम सहायक अभियंता मुकेश सत्यानी आदि मौजूद थे।

ग्रामीणों ने सौंपे ज्ञापन
कोलायत पहुंचे जिला कलेक्टर को ग्रामीणों ने क्षेत्र की समस्याओं को लेकर ज्ञापन सौंपे। सवाई सिंह राजपुरोहित, किशोर सिंह, दाऊदयाल, विमल जाजड़ा आदि ने कोलायत अस्पताल में सर्जन लगाने, एम्बुलेंस को ठीक करवाने, अंडर ब्रिज में पानी की निकासी करवाने आदि को लेकर ज्ञापन सौंपा। वही खिखनिया कुंडलियान को पंचायत बनाने के लिए ग्रामीणों ने मिलकर ज्ञापन सौंपा। वही सरोवर किनारे बन्द व खराब अवस्था मे पड़े शौचालय को जल्द से जल्द शुरू करने के निर्देश दिए।