>



बीकानेर। च्क्यूं रचूं कविताज् युवा मन की रचनात्मक प्रतिक्रिया है। यह जिज्ञासु मन को खंगालने और जवाब पाने का प्रयास है। जिंदगी को समझने की कोशिश है। इस संग्रह के माध्यम से कवि ने समाज की विकृति, विसंगति और विषमता को बताना, दिखाना और समझाना चाहा है।वरिष्ठ साहित्यकार बुलाकी शर्मा ने बुधवार को युवा कवि हरिशंकर आचार्य के तीसरे काव्य संग्रह च्क्यू रचूं कविताज् के लोकार्पण अवसर पर यह विचार रखे। मुक्ति संस्थान की ओर से बीकानेर व्यापार उद्योग मंडल सभागार में आयोजित समारोह के दौरान शर्मा ने कहा कि संग्रह की इक्यावन कविताएं पाठक के समक्ष अनेक छवियां गढ़ती हैं। इनमें सामाजिक विद्रूपताओं के विरूद्ध रोष है तो इन्हें दुरुस्त करने की उत्कंठा भी है। यह कविताएं सीधे पाठक मन में उतरती हैं और पाठक को झकझोरती हैं।वरिष्ठ कवि-कथाकार राजेन्द्र जोशी ने कहा कि आचार्य की कविताएं पढऩे में सरल और अर्थ के हिसाब से गूढ़ हैं। प्रत्येक कविता संदेशपरक है। काव्य संग्रह में विषयों की बहुलता, इसकी सबसे बड़ी खूबी है। उन्होंने कहा कि रचनाएं आज के दौर में प्रासंगिक हैं। आचार्य संस्कृति के बिखराव पर रोष करते हैं तो मानवीय रिश्तों का मुक्त कंठ से गान करते हैं।जनसंपर्क विभाग के सेवानिवृत्त संयुक्त निदेशक दिनेश चंद्र सक्सेना ने कहा कि जनसंपर्क जैसी राजकीय सेवा के दौरान आचार्य ने अपने अनुभवों और शब्दों को संवेदना की डोर में गूंथ कर बखूबी प्रस्तुत किया है। सभी रचनाएं जमीन से जुड़ी हैं। इनमें संस्कारों और संस्कृति के संरक्षण का प्रयास किया गया है।युवा राजस्थानी साहित्यकार डॉ. नमामी शंकर आचार्य ने कहा कि च्क्यं रचूं कविताज् की रचनाएं कवि के अंतर्मन का द्वंद्व है। कवि इनके माध्यम से अनेक प्रश्न रखता है और पाठक से इनके जवाब की आशा करता है। उन्होंने कहा कि कविताओं की सपाटबयानी इनकी सबसे बड़ी खूबी है, जो प्रत्येक पाठक के मन में आसानी से बैठ जाती हैं।इस अवसर पर हरिशंकर ने काव्य संग्रह में से च्मृत्युज्, च्उधेड़बुनज्, च्मुखौटा, च्बेडिय़ांज् और च्अंर्तमनज् शीर्षक कविताएं सुनाई। उन्होंने पोथी की सृजन यात्रा पर प्रकाश डाला तथा कहा कि जीवन के दौरान आने वाले उतार-चढ़ाव और इनसे प्राप्त अनुभवों को कविताओं के रूप में प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है। उन्होंने रचाव कर्म पूर्ण ईमानदारी से करने की बात कही। कार्यक्रम के अंत में इंडियन रेडक्रास सोसायटी के सचिव विजय खत्री ने आगंतुकों का आभार जताया। कार्यक्रम में दिनेश चूरा, दुर्गाशंकर आचार्य, रंगीला फाउण्डेशन के रोहित व्यास, अनुराग पुरोहित, केशव आचार्य आदि मौजूद रहे।
तीन पुस्तकों का तीन जिलों में हुआ विमोचन
च्क्यूं रचंू कविताज् आचार्य की तीसरा काव्य संग्रह है। इससे पूर्व वर्ष 2012 में राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी, बीकानेर के सहयोग से प्रकाशित राजस्थानी काव्य संग्रह च्करमां री खेतीज् का विमोचन नागौर में हुआ। दूसरी पुस्तक राजस्थानी बाल काव्य च्पेटूराम रो पेटज् का विमोचन चूरू के सालासर में वर्ष 2019 में हुआ। वहीं च्क्यूं रचूं कविताज् का प्रकाशन राजस्थान साहित्य अकादमी उदयपुर की पांडुलिपि प्रकाशन योजना के तहत किया गया है। इसका विमोचन बीकानेर में हुआ है।