>


बीकानेर। नापासर पुलिस थाना क्षेत्र में बीती रात को हुई युवक की हत्या के मामले में परिजनों व ग्रामीणों ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुवे पीबीएम मोर्चरी के आगे धरने पर बैठ गए है। धरने पर बैठे लोगों की मांग है कि जब तक पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार नहीं करती है तब तक धरने पर बैठे रहेंगे। साथ ही परिजनों व ग्रामीणों ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि एक तरफ राज्य सरकार रात्रि को आठ बजे के बाद शराब के ठेके बंद करने आदेशों पर पुलिस को सख्ताई बरतने के निर्देश दे रखे है फिर भी रात्रि को 11-12 बजे तब शराब के ठेके खुले रहते है।
ज्ञात रहे कि बीती रात को दस बजे नापासर पुलिस थाना क्षेत्र के शेरेरा गांव में सात लोगों ने एक युवक को लाठियों-सरियों से पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया था। इस संबंध में मृतक के भाई खोखरण निवासी ईमीचंद पुत्र खेमाराम जाट ने सात नामजद के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करवाया है। जिसमें बताया कि उसका भाई इन्द्राज शेरेरा गांव में किराए के मकान में लोरी मशीन लगाता था, दो-तीन दिन पहले आरोपियों ने उसके भाई को यहां से लोरी मशीन लेकर जाने की बात कही और इसी रंजिश के चलते बीती रात को प्रेम, रामदेव, संजय, रामस्वरूप पुत्रगण देराराम, सोहनलाल पुत्र तोलाराम, रामनिवास पुत्र रामलाल व मोलानिया निवासी रामदेव का बहनोई ने लाठी-सरियों से मारपीट कर हत्या कर दी। फिलहाल शव पीबीएम की मोर्चरी में रखवाया है।