हमीरपुर। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर शहर में पहली बार जुएं में पांच सौ रुपये के नोटों की गड्डी में डिवाइस लगाकर हार-जीत का दांव लगाने का मामला पहली बार पुलिस की रेड में सामने आया है। पुलिस ने एक घर से छह लोगों को गिरफ्तार कर नोटों में लगी बैटरी डिवाइस और अन्य सामान बरामद किया है।
घर में चल रहा था जुआं को यहां के एसपी कमलेश दीक्षित ने बताया कि हमीरपुर शहर के विवेक नगर मोहल्ला निवासी गोपाल उर्फ जुगुल किशोर के घर में जुआं खेले जाने की सूचना मिली। जिस पर कोतवाली के एसआई नीरज पाठक के निर्देशन में एक टीम भेजी गई। जहां पुलिस ने गोपाल उर्फ जुगुल किशोर निवासी भैंसापाली, शीबू उर्फ सानू निवासी सूफीगंज, प्रदीप उर्फ कुलदीप निवासी नौबस्ता, अर्पित उर्फ कपिल पालीवाल निवासी कुरारा, विकास माली निवासी खालेपुरा व रोहित गुप्ता निवासी बसस्टैंड कुरारा को गिरफ्तार किया। मौके से पुलिस ने माल फड़ से 21070 रुपये, जमा तलाशी में 2120 रुपये बरामद किए।
मुख्तार अंसारी को एक और बड़ा झटका, पत्नी का आम्र्स लाइसेंस भी हुआ निरस्त
नोटों के बीच लगा था कैमरा
इसके साथ ही पांच सौ रुपये के नोटों को काटकर उसके बीच में डिवाइस के साथ मोबाइल कैमरा भी लगा हुआ बरामद किया गया। एसपी ने बताया कि डिवाइस के संबंध में जब आरोपी रोहित से कड़ाई से पूछताछ की गई। तब उसने अपने कान से निकालकर ब्लूटूथ डिवाइस दिया। आरोपी ने पुलिस को बताया कि नोटों के बीच लगे कैमरे व बैटरी के बीच से यह डिवाइस उसके मोबाइल से कनेक्ट है। बताया कि इस डिवाइस के माध्यम से जानकारी एकत्रित कर लेता है और जुआं को बेईमानी से जीत लेता है।
एसपी ने पुलिस टीम को दिया 5000 रुपये का इनाम
एसपी ने बताया कि इस प्रकार के डिवाइस के उपयोग की जानकारी पहली बार पुलिस के संज्ञान में आई है। पकड़े गए आरोपी झांसी व अन्य जिलों में भी रैकेट चलाकर इस प्रकार के जुआं के फड़ चलवाने की सूचना मिली है। मामले की और गहनता से छानबीन कराई जा रही है। आरोपियों के खिलाफ स्थानीय कोतवाली में यूपी सार्वजनिक जुआं अधिनियम की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने कोतवाल मनोज शुक्ला के निर्देशन में घटना का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को पांच हजार रुपये से पुरस्कार दिया है।