चित्तौडग़ढ़। राजस्थान में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने चित्तौडग़ढ़ में शुक्रवार को राजस्थान परिवहन निगम डिपो में पदस्थ महिला सहायक यातायात निरीक्षक एवं परिचालक को ढाई हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया। ब्यूरो की चित्तौडग़ढ़ चौकी के प्रभारी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. विक्रम सिंह ने बताया कि डिपो में नियुक्त परिचालक रमेशचंद्र जोशी ने ब्यूरो को शिकायत दर्ज करवाई कि यहां पदस्थ सहायक यातायात निरीक्षक शीला चावला उसे रूट पर चलने एवं मामला नहीं बनाने की एवज में छह हजार की मासिक बंधी मांग रही है। इस पर ब्यूरो ने 19 अगस्त को सत्यापन करवाया तो शिकायत सही पाई गई। सत्यापन के दौरान उसने परिवादी से साढ़े तीन हजार रुपए ले लिए। उन्होंने बताया कि शेष राशि ड्यूटी लगने पर देना तय हुआ। इस पर ब्यूरो ने जाल बिछाते हुए सुबह जोशी को ढाई हजार रुपए देकर डिपो भेजा जहां उसने शीला चावला निरीक्षक के कक्ष में दलाल बने परिचालक महेंद्र सिंह राठौड़ को यह राशि सौंप दी। राठौड़ ने वह राशि शीला चावला को दे दी। इसके बाद इशारा मिलते ही ब्यूरो के दल ने दबिश देकर दोनों को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया और रिश्वत राशि बरामद कर ली। दोनों को ब्यूरो कार्यालय ले आया गया। दोनों को उदयपुर में ब्यूरो की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा।