खुलासा न्यूज, बीकानेर। कोरोना के बाद बेरोजगारी का दंश झेल रहे निजी कॉलेजों के प्राध्यापकों को भी शिक्षा विभागीय आदेशों की मार झेलनी पड़ रही है। जिसके तहत डीएलएड की प्रायोगिक परीक्षाओं में सरकारी प्राध्यापकों की ही डयूटी लगाई गई है। जबकि विभाग की ओर से एक सरकारी और एक निजी प्राध्यापकों की डयूटियां लगाई जाती रही है। ऐसे में निजी कॉलेजों के प्राध्यापकों ने नाराजगी जताते हुए शिक्षा मंत्री को ज्ञापन सौंपने का निर्णय लिया है। आपको बता दे कि पहले परीक्षाओं की कॉपियां चेक करने के लिये भी इसी तरह का आदेश निकाल रखा है। ऐसे में कोरोना के बाद बेरोजगार प्राध्यापकों पर संकट ओर भी छा गया है।
प्रायोगिक परीक्षाएं 25 से
उधर डीएलएड के प्रथम व द्वितीय वर्ष की प्रायोगिक परीक्षाओं की तिथियां घोषित कर दी गई है। राजस्थान के करीब 300 डीएलएड कॉलेज के विद्यार्थियों की यह परीक्षा 25 फरवरी से 6 मार्च के बीच होंगे। इस संबंध में शिक्षा विभाग ने कार्यक्रम जारी कर दिया है। साथ ही कॉलेजों से विद्यार्थियों के सत्रांक भेजने की तिथि भी एक मार्च तक बढ़ा दी गई है।